इंजीनियर कैसे बने 

अगर आप एक सफल इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको इसकी तैयारी कक्षा 10 से ही शुरू करनी होगी.

दसवीं क्लास से ही भौतिकी, रसायनशास्त्र और गणित विषयों के मूल सिद्धांतों को अच्छे से समझें और अन्य विषयों के मुकाबले इन विषयों पर अधिक ध्यान दें।

आप अपनी पसंद और नापंद के बारे में सोचें और फिर अपनी शौक के हिसाब से इंजीनियरिंग की कोई  भी एक शाखा चुने और फैसला करें।

उदहारण के लिए: यदि आपको ऑनलाइन वेबसाइट बनाना पसंद है तो आप कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग कर सकते हैं। इसी रह से यदि आपको कंप्यूटर में होने वाले तकनिकी खराबी को दूर करना पसंद है तो आप इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में जा सकते हैं।

इंजीनियर बनने के लिए डिप्लोमा और डिग्री की जरुरत  पडती है लेकिन इंजीनियर भी कई प्रकार के होते हैँ

इंजीनियर काफी प्रकार के होते है जैसे इलेक्ट्रिकल इंजीनियर, मैकेनिकल इंजीनियर, सिविल इंजीनियर, कंप्यूटर इंजीनियर, सॉफ्टवेयर इंजीनियर आदि.

आप चाहे तो 10वीं या 12वीं दोनों के बाद इंजीनियर बन सकते है

10वीं के बाद  इंजीनियर कोर्स करते है वो डिप्लोमा डिग्री होता है मतलब आप जूनियर इंजीनियर कहलाते है और 12वीं के बाद जो करते है वो बैचलर डिग्री होता है और यह बैचलर डिग्री पूरा करने के बाद पूर्ण इंजीनियर कहलाते है।

 10वीं के बाद इंजीनियर बनने के लिए  – 3 साल का डिप्लोमा + 3 साल की डिग्री = 6 साल

 12 वीं के बाद इंजीनियर बनने के लिए  – इंटर 2 साल + 4 साल की डिग्री  = 6 साल

इंजीनियर की सैलरी उसकी कंपनी, पोजीशन और अनुभव पर निर्भर करती है। देश के बड़े कॉलेज जैसे आईआईटी और एनआईटी जैसे संस्थानों के मैकेनिकल इंजीनियरिंग छात्रों को लगभग 7 से 10 लाख रुपये सालाना पैकज दिया जाता हैं।   

कंप्यूटर इंजीनियर की सैलरी 2.5 लाख सालाना से लेकर 8.5 लाख सालाना या इससे ज्यादा तक है। अच्छी कंपनी जैसे गुगल, ट्विटर और फेसबुक जैसी बड़ी कंपनियां इंजीनियरों को 1 करोड़ रुपये तक का सालाना ऑफर पेश कर रही है।

इंजीनियर कैसे बने के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें

Arrow