बिहार नगर निकाय चुनाव 2022 तिथि नॉमिनेशन नियमावली वोटर लिस्ट

पंचायत चुनावों के बाद अगले साल 2022 अप्रैल-मई महीने में बिहार नगर निकाय चुनाव होंगे. बिहार में वर्तमान 142 नगर निकायों का कार्यकाल जून 2022 में खत्म हो रहा है. ऐसे में पुराने 142 व नये 117 सहित कुल 259 नगर निकायों के चुनाव एक साथ ही कराये जायेंगे. बिहार नगर निकाय चुनाव को लेकर राज्य सरकार के स्तर पर कार्रवाई शुरू हो गयी है. 142 नगर निकायों का कार्यकाल जून 2022 में खत्म होगा। नए और पुराने 259 नगर निकायों में अगले साल एक साथ अप्रैल-मई में चुनाव होंगे।

वर्तमान में सूबे में 18 नगर निगम, 83 नगर पर्षद व 158 नगर पंचायत अधिसूचित हैं. दिसंबर 2020 में 117 नये नगर निकाय हुए अधिसूचित: दिसंबर 2020 में राज्य सरकार ने 117 नये नगर निकायों की अधिसूचना जारी की थी. इनमें छह नगर निगम, 34 नगर पर्षद व 77 नगर पंचायत शामिल रहे. इनमें कई नगर पर्षद को नगर निगम में, कई नगर पंचायत को नगर परिषद में और कई ग्राम पंचायतों कोनगर पंचायत में उत्क्रमित किया गया. कई ग्राम पंचायत को सीधे नगर पर्षद का दर्जा भी दिया गया.

फिलहाल पुनर्गठित नये नगर निकायों के सीमांकन का काम चल रहा है. जिला प्रशासन के सहयोग से कार्यपालक पदाधिकारियों द्वारा वाडौं का सीमांकन कर उसका प्रस्ताव नगर विकास एवं आवास विभाग को भेजा जायेगा. इसके उपरांत विभाग के स्तर पर मुहर लगने के बाद इसे अधिसूचित किया जायेगा.डीएम को सीमांकन के लिए प्रति पंचायत पांच-पांच कर्मचारी मुहैया कराने का निर्देश दिया गया है.

बिहार नगर निकाय चुनाव 2022 Importent Information

चुनावबिहार नगर निकाय चुनाव 2022
राज्यबिहार
साल 2022
नगर निकायों की संख्या पुराने 142 व नये 117 सहित कुल 259
official websitewww.sec.bihar.gov.in

बिहार नगर निकाय चुनाव 2022 में नये नगर निगम

निगम में बन सकेंगे अधिकतम 75 वार्ड

बिहार नगरपालिका अधिनियम 2007 के मुताबिक नगर निगम के मामले में दस लाख से अधिक आबादी होने पर हर 75 हजार की आबादी पर एक वार्ड बनाया जायेगा. पांच से दस लाख आबादी वाले नगर निगम में 50 हजार पर जबकि दो से पांच लाख आबादी वाले नगर निगम में 25 हजार की आबादी पर एक वार्ड का गठन होगा.

आबादी के मुताबिक वार्डों की संख्या न्यूनतम 45 से अधिकतम 75 तक होगी.इसी तरह, नगर परिषद के मामले में 1.5 लाख से ऊपर आबादी होने पर 15 हजार पर, एक लाख से ऊपर आबादी पर 10 हजार पर और 40 हजार से ऊपर आबादी पर एक वार्ड पार्षद की व्यवस्था होगी. नगर पंचायत में हर दो हजार की आबादी पर एक वार्ड पार्षद रहेगा.एक नगर पंचायत में वाडौँ की संख्या न्यूनतम 10 व अधिकतम 25 ही रहेगी. नये नगर निकायों के सीमांकन का चल रहा काम

  • पुराने 142 और नये 117 नगर निकायों के कराये जायेंगे चुनाव, वार्डों के गठन के बाद जारी होगी अधिसूचना
  • वर्तमान में सूबे में 18 नगर निगम 83 नगर पर्षद और 158 नगर पचायत अधिसूचित

बिहार पंचायत चुनाव 2021Nomination तिथि नियमावली वोटर लिस्ट रिजल्ट मतगणना

मतदाता सूची में संशोधन और नाम जुड़वाने को चलेगा विशेष अभियान

पटना में निर्वाचक सूची (मतदाता सूची) का प्रकाशन एक नवंबर को किया जाएगा। 30 नवंबर तक दावा -आपत्ति का समय है। दावा आपत्ति का निष्पादन 20 दिसंबर को किया जाएगा। मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन पांच जनवरी 2022 को किया जाएगा।

विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण अवधि मे दिव्यांग निर्वाचकों के लिए मतदाता सूची में निबंधन के लिए विशेष कैंप का आयोजन किया जाएगा। बीएलओ उनके घर जाकर संपर्क कर सहयोग करेंगे। डीडीसी रिची पांडे की अध्यक्षता में गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला निगरानी समिति की बैठक की गई। अर्हता तिथि 1 जनवरी 2020 के आधार पर जिसका 18 वर्ष पूरा हुआ है, वैसे नये योग्य मतदाता पहचान पत्र बनवाने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

विभिन्न शाखाओं शिक्षण संस्थानों दिव्यांग जनों से संबंधित संस्थानों एनजीओ सिविल सोसायटी रेड क्रास नेहरू युवा केंद्र आदि संस्था को चिन्हित कर निर्वाचन की प्रक्रिया में सहभागिता का निर्देश दिया गया। पटना जिला में कुल मतदाताओं की संख्या 4811368 है, जिसमें 31880 पीडब्ल्यूडी(दिव्यांग)मतदाता हैं।

दिव्यांग मतदाताओं के लिए विशेष सुविधा


7 नवंबर एवं 21 नवंबर को विशेष अभियान चलाए जाएंगे। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विकसित पीडब्ल्यूडी एप का उपयोग पीडब्ल्यूडी (दिव्यांग) निर्वाचक को मतदाता सूची में चिन्हित करने, नए पीडब्ल्यूडी मतदाता का निबंधन करने, नाम जोड़ने, संशोधन करने, विलोपन करने स्थानांतरित करने आदि का कार्य किया जा सकता है।

विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र स्तर पर दिव्यांग मतदाताओं का नाम मतदाता सूची में जोड़ने के लिए निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी स्तर पर अलग से व्यवस्था किया जाना। इसके लिए सभी निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी के कार्यालय में दिव्यांग मतदाताओं के लिए विशेष सुविधा दी जाएगी। हेल्पलाइन नंबर 1950 के माध्यम से दिव्यांग मतदाताओं का नाम निर्वाचक सूची में जोड़ने के लिए आवश्यक जानकारी दिया जाना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!