बिहार किसान चौपाल कार्यक्रम आज से मिलेगी वैज्ञानिक तरीके से खेती की जानकारी

किसान चौपाल कार्यक्रम : बिहार सरकार के कृषि विभाग की ओर से ग्राम पंचायत के अंतर्गत चयनित गाँव राज्य के किसानों को कृषि की आधुनिकतम तकनीकी एवं कृषि संबंधी योजनाओं की जानकारी उपलब्ध कराने तथा किसानों के कृषि संबंधी समस्याओं के समाधान एवं योजनाओं के कार्यान्वयन हेतु इनसे सुझाव प्राप्त करने के उद्देश्य से किसान चौपाल का आयोजन किया जा रहा है।

ये भी पढ़े : 6,800 रूपये प्रति हेक्टेयर बिहार कृषि इनपुट अनुदान के लिए अप्लाई करे

यह कार्यक्रम जिला के जिला कृषि पदाधिकारी/परियोजना निदेशक, आत्मा/प्रखंड कृषि पदाधिकारी/प्रखंड/सहायक तकनीकी प्रबंधक, कृषि समन्वयक एवं किसान सलाहकार कर्मी भाग लेंगे। किसान चौपाल कार्यक्रम में किसानों को कृषि के अलावा फसलों के उत्पादन ,पशुपालन, मत्स्य एवं सहकारिता विभाग द्वारा संचालित योजनाओं व कार्यक्रमों की भी जानकारी दी जायेगी और किसानों से सुझाव भी प्राप्त किये जायेंगे.।

ये भी पढ़े : बिहार किसान अनुदान रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करे

किसानो को जलवायु परिवर्तन से कृषि करने में उत्पन्न होने वाली चुनौतियों, खेतों में फसल अवशेषों को जलाने से हो रहे नुकसान तथा उसका प्रबंधन व जल- जीवन- हरियाली अभियान के तहत मौसम अनुकूल खेती के विषय में विस्तार से जानकारी दी जायेगी और उत्पादन बढ़ाने के लिए मिट्‌टी जांच के आधार पर संतुलन मात्रा में उर्वरकों का प्रयोग, समय से फसल की बुआई, फफुंदनाशी एवं कीटनाशी से बीजोपचार, सिंचाई के लिए जल प्रबंधन ,खरपतवार नियंत्रण ,दीमक एवं चूहा नियंत्रण ,समेकित कीट प्रबंधन व समेकित पोषक तत्व प्रबंधन आदि के बारे में किसानों को जानकारी उपलब्ध कराना हैं।

चौपाल कार्यक्रम के प्रमुख विषय

  • योजना के लिए कार्ययोजना तैयार करने हेतु किसानों के सुझाव प्राप्त करना।
  • कृषि की आधुनिकतम तकनीकी किसानों को उपलब्ध कराना।
  • किसानों के स्थानीय समस्याओं का समाधान।
  • किसान उत्पादक संगठन एवं किसान हित समूह के गठन।
  • किसानों की आमदनी में वृद्धि/दुगुनी करने के उपाय।
  • कृषि विभाग द्वारा किसानों के लिए संचालित कार्यक्रमों की जानकारी उपलब्ध कराना।
  • उद्यान की योजनाओं की जानकारी उपलब्ध कराना।

किसान की लिए चलाये जाने वाले योजना

किसान की लिए चलाये जाने वाले योजना का जानकारी देना, जो निम्नलिखित है :-

  1. किसान पुरस्कार कार्यक्रम।
  2. कौशल विकास मिशन।
  3. खेतों के फसल अवशेषों को जलाने से होने वाले नुकसान के संबंध में किसानों को जागरूक करना।
  4. “’जल-जीवन-हरियाली” अभियान।
  5. समेकित कृषि प्रणाली।
  6. मिट्टी जाँच एवं मृदा स्वास्थ्य कार्ड।
  7. कृषि इनपुट अनुदान योजना।
  8. जैविक खेती।
  9. प्रधानमंत्री कृषि सूक्ष्म सिंचाई योजना पर जानकारी।
  10. कृषि यंत्रीकरण एवं कृषि यंत्र बैंक की स्थापना।
  11. पौधा संरक्षण।
  12. किसान क्रेडिट कार्ड।
  13. जिला सिंचाई कार्य योजना (डी.आई.पी.)।
  14. जल छाजन।
  15. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना।
  16. प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना।
  17. पशुपालन, मत्स्यपालन तथा डेयरी से संबंधित योजनाओं की जानकारी उपलब्ध कराना।

सरकार द्वारा जिले में कृषि विभाग द्वारा चल रहा कार्यक्रम प्रचार-प्रसार के अभाव में कई प्रखंडों वो गॉवो में किसानों को जानकारी भी नहीं मिल रही जिसके कारण किसान को लाभ नहीं मिल रहा है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!