MSc Psychiatric Nursing course colleges vacancy syllabus jobs

कैरियर एक ऐसा शब्द है, जो हर विद्यार्थी को दसवीं कक्षा अथवा 12वीं कक्षा को पास करने के बाद काफी परेशान करने लगता है। हर विद्यार्थी अपना कैरियर अच्छा बनाने के लिए जी तोड़ मेहनत करता है और अपने अपने इंटरेस्ट के हिसाब से कोर्स को करके या तो नौकरी करता है या फिर कोई बिजनेस स्टार्ट करता है। यह बात तो पक्के तौर पर कही जा सकती है कि, जिस आदमी का कैरियर अच्छा होता है, उसकी जिंदगी काफी आराम से व्यतीत होती है, क्योंकि अच्छा कैरियर मतलब अच्छी इनकम और अच्छी इनकम मतलब अच्छी लाइफ स्टाइल। आज मै आपको MSc Psychiatric Nursing कोर्स के बारे में बताने जा रहा है की MSc Psychiatric Nursing कोर्स क्या है और इस कोर्स से जानकारी इस पोस्ट के पढ़ने को मिल जायेगा तो ध्यान से इस पोस्ट को पढ़े।

Contents show

एमएससी साइकियाट्रिक नर्सिंग कोर्स एक मास्टर डिग्री कोर्स है जो मानसिक रूप से अस्थिर रोगियों की देखभाल के लिए किया जाता है। यह कोर्स 2 साल का होता है

MSc Psychiatric Nursing Course importent Point

Course MSc Psychiatric Nursing
Duration2 years
Eligibilityबीएससी नर्सिंग में न्यूनतम 55% अंकों के साथ उत्तीर्ण
Admission Processप्रवेश आधारित परीक्षा
FeeApprox INR 80,000 to 2,00,000 Annual
Salaryशुरुआत में लगभग 3,00,000 से INR 4,00,000
Top Job Areasमेडिकल कॉलेज, नर्सिंग होम ,मानसिक अस्पताल, आदि।
Job Positionsनर्सिंग मैनेजर, सीनियर नर्स, चीफ नर्सिंग ऑफिसर आदि।

एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कैसे करें?

अगर आपको नर्सिंग की फील्ड में इंटरेस्ट है तो आप MSC in Psychiatric nursing course का कोर्स कर सकते हैं और इस फील्ड में अपना कैरियर बना सकते हैं, हालांकि बहुत से ऐसे अभ्यर्थी हैं,जो इस फील्ड में अपना कैरियर तो बनाना चाहते हैं, परंतु उन्हें यह जानकारी नहीं होती है कि MSC in Psychiatric nursing course क्या होता है? और यह नर्सिंग कोर्स कैसे किया जाता है? तथा MSC in Psychiatric nursing course का कोर्स करने के लिए कौन सी योग्यता होनी चाहिए। इस पोस्ट मे हम आपको एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कोर्स के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं।

MSC in Psychiatric nursing course क्या है?

एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कोर्स कुल 2 साल का मास्टर डिग्री कोर्स होता है, जो अभ्यर्थियों को यह सिखाता है कि कैसे मानसिक तौर पर बीमार लोगों को हैंडल किया जाता है। इस कोर्स के अंदर अभ्यर्थियों को अलग-अलग प्रकार की नर्सिंग की थेरेपी के बारे में अध्ययन करवाया जाता है।

 जिसमें फिजिको सोशल थेरेपी, इलेक्ट्रोकंवल्सिव थेरेपी और अन्य कई हीलिंग थेरेपी शामिल है। इस कोर्स में अभ्यर्थियों को थियोरेटिकल और प्रैक्टिकल दोनों प्रकार की इंफॉर्मेशन दी जाती है।यह कोर्स मुख्य तौर पर प्रैक्टिकल लर्निंग सेशन पर फोकस करता है, जिसमें लाइव प्रैक्टिकल सेशन, इंटर्नशिप शामिल है। यह कोर्स ट्रीटमेंट प्रोसेस को प्रोत्साहित करती है, जिसमें सोशल थेरेपी शामिल होती है।

एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग करने के लिए क्वालिफिकेशन क्या है?

जो भी अभ्यर्थी एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कोर्स को करना चाहते हैं, उन्हें नीचे दी गई योग्यता को पूरा करना होगा।

  • अभ्यर्थी को इस कोर्स को करने के लिए इंडिया के किसी सर्टिफाइड इंस्टिट्यूट से नर्सिंग साइंस में बैचलर डिग्री को हासिल करना होगा
  • अधिकतर यूनिवर्सिटी के द्वारा कम से कम 55 परसेंट अंक बैचलर डिग्री के कोर्स में डिमांड की जाती है।
  • कई कॉलेज ऐसे हैं, जो सिर्फ महिला कैंडिडेट को ही इस कोर्स में एडमिशन देते हैं, हालांकि यह आवश्यक नहीं है कि सभी कॉलेज ऐसा करते हो।

एमएससी इन साइकेट्रिक नर्सिंग कोर्स के लिए एंट्रेंस एग्जाम क्या है?

इंडिया के कुछ टॉप कॉलेज और यूनिवर्सिटी MSC in Cyketric nursing कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन करवाते हैं। एंट्रेंस एग्जाम की सहायता से यूनिवर्सिटी और कॉलेज इस बात का पता लगाते हैं कि, विद्यार्थी वाकई में इस कोर्स के लिए लायक है अथवा नहीं।

नीचे हम आपको साइकेट्रिक नर्सिंग कोर्स के लिए आयोजित होने वाली टॉप एंट्रेंस एग्जाम की जानकारी दे रहे हैं।

  • JIPMER PG: यह एक नेशनल लेवल की प्रवेश परीक्षा होती है,जो सामान्य तौर पर हर साल में जून के महीने में करवाई जाती है।
  • AIIMS PG: यह भी एक नेशनल लेवल की एंट्रेंस एग्जाम होती है, जो साल में कई बार आयोजित होती है।
  • INI CET: इस एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन AIIMS के द्वारा करवाया जाता है।

MSC in Psychiatric nursing course के एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी कैसे करें?

एमएससी इन साइकेट्रिक नर्सिंग कोर्स एग्जाम सामान्य तौर पर ऑनलाइन होती है, जिसे प्रतिष्ठित मेडिकल कॉलेज के द्वारा लिया जाता है।इस एग्जाम के क्वेश्चन पैटर्न और इस एग्जाम से संबंधित इंपोर्टेंट टिप्स के बारे में नीचे हम डिस्कस कर रहे हैं।

  • इस एग्जाम को देने के लिए अभ्यर्थियों को टोटल 3 घंटे का समय दिया जाता है और इस एग्जाम में MCQ टाइप के क्वेश्चन होते हैं। इस एग्जाम में कभी-कभी नेगेटिव मार्किंग भी होती है।
  • इस एग्जाम में जो क्वेश्चन पूछे जाते हैं, वह बैचलर डिग्री के सिलेबस से संबंधित क्वेश्चन होते हैं, साथ ही इसमें सामान्य एप्टिट्यूड के क्वेश्चन भी शामिल होते हैं।
  • कभी कबार एस एंट्रेंस एग्जाम के क्वेश्चन पेपर में अंग्रेजी और सामान्य ज्ञान से संबंधित क्वेश्चन भी आते हैं।
  • इस एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के लिए विद्यार्थी इस बात को अवश्य सुनिश्चित कर ले की वह हर उस टॉपिक को कबर करें, जो उन्होंने बैचलर की डिग्री में पढे है।
  • इस एग्जाम की तैयारी करने के लिए आप जो भी स्टडी करें उसे समय-समय पर रिवीजन अवश्य करें ताकि वह अपने द्वारा पढी गई चीजें भूल ना जाएं।
  • विद्यार्थियों को इस एग्जाम के पुराने क्वेश्चन पेपर को भी अवश्य चेक कर लेना चाहिए और उस क्वेश्चन पेपर में जो क्वेश्चन है, उन्हें देखना चाहिए और एग्जाम के पैटर्न को और एग्जाम के सिलेबस को समझना चाहिए।

MSC in Psychiatric nursing course की एडमिशन प्रोसेस क्या है?

अधिकतर यूनिवर्सिटी के द्वारा एमएससी इन साइकेट्रिक नर्सिंग कोर्स में एडमिशन देने के लिए एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन किया जाता है। इस कोर्स में एडमिशन पाने की प्रक्रिया नीचे हम आपको विस्तार से बता रहे हैं।

  • इस कोर्स में एडमिशन पाने के लिए सबसे पहले विद्यार्थियों को एंट्रेंस एग्जाम को देना होता है और एंट्रेंस एग्जाम को अच्छे अंकों के साथ पास करना पड़ता है।
  • एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के बाद विद्यार्थियों को अपने आपको काउंसलिंग और सीट एलोकेशन प्रोसेस के लिए रजिस्टर करना होता है।
  • इसके बाद विद्यार्थियों को सीट का अलॉटमेंट किया जाता है।
  • जिन विद्यार्थियों को सीट का अलॉटमेंट किया जाता है, उन्हें फिर डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया जाता है और उनके सभी डॉक्यूमेंट की जांच की जाती है।
  • डॉक्यूमेंट की जांच होने के बाद अभ्यर्थियों को आवश्यक एडमिशन फीस भरना पड़ता है,जिसे वह Cash या फिर डिमांड ड्राफ्ट के द्वारा भर सकते हैं।

MSC in Psychiatric nursing course करने के लिए बेस्ट कॉलेज कैसे चुने?

एमएससी इन साइकेट्रिक नर्सिंग का कोर्स करने के लिए विद्यार्थियों को बेस्ट कॉलेज का सिलेक्शन करने के लिए नीचे दिए गए पॉइंट को अपने दिमाग में अवश्य रखना चाहिए।

  • इस कोर्स को करने हेतु बेस्ट कॉलेज पाने के लिए अभ्यर्थियों को एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे से अच्छे अंक लाने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि यह कोर्स बहुत ही पॉपुलर कोर्स है और इसीलिए इसकी लिमिटेड सीट होती है,इसीलिए अगर आपके अच्छे अंक आएंगे, तो आपको इस कोर्स में आसानी से एडमिशन मिल जाएगा।
  • अगर कैंडिडेट अपनी बैचलर की डिग्री में अच्छी परफॉर्मेस करता है, तो इसका भी उसे कुछ फायदा मिल सकता है।
  • कैंडिडेट को अपने CV में अपने कार्य अनुभव को अवश्य हाईलाइट करना चाहिए, यह काउंसलिंग के दरमियान उनके सिलेक्ट होने के चांस को बढ़ाता है।
  • कैंडिडेट के अंदर अच्छी कम्युनिकेशन और व्यवहारिक स्किल्स होनी चाहिए, जो की काउंसलिंग की प्रोसेस के दरमियान टेस्ट की जाती है।

NEET exam date eligibility pattern NTA latest News Syllabus updates

एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कोर्स करने के लिए इंडिया के बेस्ट कॉलेज कौन से हैं?

  • PES इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च
  • भारती विद्यापीठ डीम्ड यूनिवर्सिटी
  • आदेश यूनिवर्सिटी
  • एमिटी यूनिवर्सिटी
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज
  • विनायक मिशन यूनिवर्सिटी
  • हिंद इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस
  • येनेपोया यूनिवर्सिटी
  • इंडियन अकैडमी ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूट

MSc Psychiatric Nursing Syllabus

Semester ISemester II
Nursing PhilosophyConcepts of PsychoBiology
Nursing EducationStress and Its Management
Advanced Nursing PracticeAssertive Training
Nursing Research and StatisticsPromoting Self Esteem
Theories of Personality DevelopmentWomen and Mental Health
Introduction to Psychiatric NursingHealing Therapy
Semester IIISemester IV
Psycho Social and Physical TherapiesNursing Management
Electroconvulsive TherapyNursing Research
PsychopharmacologyViva – Voce
Alternative Systems of Medication in Mental HealthPractical Training
Therapeutic Communication and Interpersonal RelationsDissertation

MSC in Psychiatric nursing course कोर्स करने के बाद कौन सी नौकरी मिलेगी?

  • रिहैबिलिटेशन स्पेशलिस्ट
  • मेट्रोन
  • सीनियर नर्स
  • नर्सिंग मैनेजर
  • चीफ नर्सिंग ऑफिसर

MSC in Psychiatric nursing course करने के बाद फ्यूचर स्कोप क्या है?

कोर्स को पूरा करने के बाद अभ्यर्थी अलग-अलग प्रकार के सोशल ऑर्गेनाइजेशन के लिए काम कर सकता है, जिसमें वह मानसिक तौर पर अस्वस्थ लोगों की सहायता कर सकता है। अभ्यर्थी चाहे तो खुद का काउंसलिंग अथवा मेंटल केयर सेंटर भी स्टार्ट कर सकता है।

इस कोर्स को पूरा करने के बाद अगर अभ्यर्थी हायर एजुकेशन प्राप्त करना चाहता है, तो वह पीएचडी कोर्स इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कर सकता है।यह एक रिसर्च बेस्ड कोर्स होता है,जिसके अंदर अभ्यर्थी को अलग-अलग प्रकार की नर्सिंग टेक्निक पर रिसर्च करने का मौका मिलता है।

Master in Occupational Therapy Course colleges salary Exam

MSC in Psychiatric nursing course कोर्स करने के फायदे क्या है?

एमएससी इन साइकेट्रिक नर्सिंग कोर्स एक रेपुटेड कोर्स होता है, जिसे करने पर नीचे दिए गए फायदे होते हैं।

  • MSc Psychiatric Nursing कोर्स को पूरा कर लेने के बाद कैंडिडेट आसानी से गवर्नमेंट जॉब प्राप्त कर सकता है जिसके अंतर्गत वह मेंटल हॉस्पिटल,नर्सिंग होम्स, गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज,गवर्नमेंट हेल्थ सेंटर और दूसरे गवर्नमेंट हेल्थ फैसिलिटी में नौकरी प्राप्त कर सकता है।
  • इस कोर्स को करने वाले अभ्यर्थियों को काफी अच्छा सैलरी पैकेज प्राप्त होता है।
  • MSc Psychiatric Nursing कोर्स को करने के बाद आवेदक के सामने अलग-अलग प्रकार के रिसर्च प्रोजेक्ट में शामिल होने का मौका होता है,वह चाहे तो खुद की रिसर्च भी कर सकते हैं।
  • इस कोर्स को करने के बाद अभ्यर्थी जापान, रसिया और चाइना जैसे देशों में भी काम कर सकता है।

MSC in Psychiatric nursing course कोर्स करने के बाद नौकरी कहां मिलेगी?

  • मेंटल हॉस्पिटल
  • मेडिकल कॉलेज
  • नर्सिंग होम्स
  • प्राइवेट एनजीओ
  • Mental Asylum

MSC in Psychiatric nursing course की फीस क्या है?

गवर्नमेंट और प्राइवेट यूनिवर्सिटी में इस कोर्स की फीस अलग-अलग होती है।गवर्नमेंट कॉलेज में इस कोर्स की सालाना फीस तकरीबन ₹60,000 से लेकर ₹1,20,000 के आसपास तक हो सकती है और प्राइवेट यूनिवर्सिटी में इसकी सालाना फीस ₹80,000 से लेकर ₹2,00000 के आसपास तक हो सकती है। हर यूनिवर्सिटी और हर राज्य में इस कोर्स की फीस अलग-अलग होती है।

MSC in Psychiatric nursing course करने के बाद शुरुआती सैलरी क्या मिलती है?

एमएससी इन साइकेट्रिक का कोर्स कर चुके अभ्यर्थियों को स्टार्टिंग में तकरीबन ₹3 लाख से लेकर ₹4 लाख तक की सालाना सैलरी प्राप्त होती है और अनुभव बढ़ने पर तथा काम का समय बढ़ने पर इनकी सैलरी बढ़ती है।

BCA Course Details in Hindi syllabus- बीसीए कोर्स करने के फायदे और पात्रता

FAQ:

Q1: एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कोर्स कितने साल का कोर्स होता है?

Ans: इस कोर्स की अवधि कुल 2 वर्ष होती है।

Q2: इस कोर्स को करने के बाद शुरुवात में कितनी सैलरी मिलती है?

Ans: इसको करने के बाद स्टार्टिंग में कैंडिडेट को ₹3,00000 से लेकर ₹4,00000 तक की सालाना सैलरी मिलती है।

Q3: इस कोर्स की फीस कितनी होती है?

Ans: हर यूनिवर्सिटी में इस कोर्स की फीस अलग-अलग होती है।

Q4: क्या एमएससी इन साइकाइट्रिक नर्सिंग कोर्स करने के बाद इंडिया में अच्छी जॉब अपॉर्चुनिटी प्राप्त होती है?

Ans: जी हां, जो अभ्यर्थी इस कोर्स को कर चुके हैं,उनके पास मल्टीपल कैरियर ऑप्शन होते हैं। वह गवर्नमेंट या फिर प्राइवेट जॉब कर सकते हैं,साथ ही सेल्फ एंप्लॉयमेंट भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!