बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स एडमिशन, फीस, सिलेबस

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स – government physiotherapy college | bachelor of physiotherapy fees | bachelor of physiotherapy salary | physiotherapy course, fees | bachelor of physiotherapy means | bachelor of physiotherapy eligibility | bachelor of physiotherapy course
bpt full form

Contents show

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स : Bachelor of Physiotherapy  एक करियर विकल्प के तौर पर मेडिकल की फील्ड हमेशा से ही छात्रों के बीच काफी पॉपुलर है, क्योंकि यह फील्ड एक हाई सैलरी देने वाली फील्ड मानी जाती है। मेडिकल की फील्ड से किसी भी कोर्स को कंप्लीट करने के बाद विद्यार्थियों को काफी बढ़िया सैलरी पैकेज मिलता है, जो महीने के तौर पर भी होता है और सालाना तौर पर भी होता है।

Bachelor-of-Physiotherapy
Bachelor-of-Physiotherapy

मेडिकल की Field में कई ब्रांच होती है, इसीलिए हर विद्यार्थी अपने इंटरेस्ट के हिसाब से मेडिकल की फील्ड से संबंधित अपनी पसंद की ब्रांच में एडमिशन लेता है और कोर्स करता है। मेडिकल की फील्ड में एक फिजियोथैरेपी की भी ब्रांच होती है, जो बहुत ही फायदेमंद मानी जाती है एक अच्छे कैरियर और आकर्षक सैलरी के लिए।

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स कैसे करें?

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी का कोर्स करके विद्यार्थी फिजियोथैरेपिस्ट बन सकते हैं और फिजियोथैरेपिस्ट बनने के बाद वह शरीर में लगने वाली चोट, शरीर की अन्य समस्याएं और शरीर के दर्द से परेशान लोगों का ट्रीटमेंट कर सकते हैं। एक फिजियोथैरेपिस्ट मुख्य तौर पर व्यक्ति की बॉडी के बाहरी हिस्से में लगी हुई चोट को ठीक करता है।

फिजियोथैरेपिस्ट का काम जानने के बाद आपके मन में यह क्वेश्चन अवश्य उत्पन्न हुआ होगा कि, आखिर फिजियोथैरेपिस्ट बनने के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है। हम आपको बता दें कि, फिजियोथैरेपिस्ट बनने के लिए बैचलर आफ फिजियोथैरेपी का कोर्स करना पड़ता है। यह कोर्स कैसे किया जाता है,आइए जानते हैं विस्तार से।

बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी कोर्स क्या है?

Bachelor of physiotherapy को शार्ट नेम के तहत BPT कहा जाता है, जो कि एक अंडर ग्रेजुएट अकैडमी कोर्स होता है। इस कोर्स में विद्यार्थियों को इस बात की जानकारी प्रदान की जाती है कि, कैसे वह व्यक्ति की बॉडी का उसका उपचार कर सकते हैं।

मुख्य तौर पर इस कोर्स में विद्यार्थियों को मालिश, कसरत और दूसरे तरीकों के बारे में जानकारी दी जाती है,जो कि थियोरेटिकल और प्रैक्टिकल दोनों होती है।

अगर इस बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी कोर्स की कुल अवधि के बारे में बात करें तो अभ्यर्थियों को इस कोर्स को करने में कुल 4 साल का समय लगता है, जिसमें 6 महीने की Internship भी विद्यार्थियों को करनी होती है।

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स करने के लिए योग्यता क्या है?

अगर किसी अभ्यर्थी ने नीचे दी गई शैक्षणिक योग्यता को पूरा किया है, तो वह इस कोर्स के लिए आवेदन कर इसे पूरा कर सकता है

इस कोर्स में एडमिशन प्राप्त करने हेतु विद्यार्थियों को बायोलॉजी, फिजिक्स और केमिस्ट्री सब्जेक्ट के साथ बारहवीं की एग्जाम को कम से कम 50 परसेंट अंकों के साथ पास करना जरूरी है, तभी वह इस कोर्स में एडमिशन प्राप्त करने के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स करने के फायदे क्या हैं?

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी का कोर्स करने के कई फायदे हैं, जिसकी जानकारी हम आपको नीचे प्रदान कर रहे हैं।

  • जो भी अभ्यर्थी बैचलर आफ फिजियोथैरेपी का कोर्स पूरा कर लेते हैं,वह इस कोर्स को करने के बाद फिजियोथैरेपिस्ट बन जाते हैं और उसके बाद वह फिजियोथेरेपिस्ट के तहत अपना काम चालू कर सकते हैं।
  • इस कोर्स को करने के बाद अभ्यर्थी अंडर ग्रेजुएट कहलाने लगता है।
  • कोर्स के पश्चात अभ्यर्थी गवर्नमेंट या फिर प्राइवेट हॉस्पिटल में फिजियोथैरेपिस्ट की पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकता है।
  • अभ्यर्थी चाहे तो अपना खुद का प्राइवेट फिजियोथैरेपिस्ट क्लीनिक भी ओपन कर सकता है।
  • आपकी इंफॉर्मेशन के लिए बता दें कि, इस कोर्स की विदेशों में भी डिमांड है, इसलिए आप वहां पर भी काम कर सकते हैं।

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स का सिलेबस क्या है?

इस कोर्स के सिलेबस इस प्रकार हैं।

  • एक्सरसाइज थेरेपी
  • एनाटोमी
  • आर्थोपेडिक्स और स्पोर्ट्स फिजियोथेरेपी
  • न्यूरो-फिजियोथेरेपी
  • कम्युनिटी बेस्ड रिहैबिलिटेशन

बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी कोर्स करने के बाद कौन से पद पर नौकरी मिलेगी?

  • थेरेपी मैनेजर
  • स्पोर्ट्स फिजियो रेहाबिलिटटर
  • कस्टमर केयर असिस्टेंट
  • रेसेअर्चेर
  • रिसर्च असिस्टेंट
  • ओस्टेओपैथ
  • असिस्टेंट फ़िज़ियोथेरेपिस्ट
  • लेक्चरर
  • सेल्फ एम्प्लॉयड प्राइवेट फ़िज़ियोथेरेपिस्ट

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी का कोर्स करने के बाद नौकरी कहां मिलेगी?

  • डिफेन्स मेडिकल एस्टेब्लिशमेंट
  • रिहैबिलिटेशन सेंटर्स फॉर थे हैंडीकैप्ड
  • हेल्थ इंस्टीटूशन्स
  • प्राइवेट क्लीनिक
  • फिजियोथेरेपी इक्विपमेंट मनुफक्चरर्स
  • एजुकेशनल इंस्टीटूशन्स
  • फिटनेस सेंटर्स
  • ओर्थपेडीक डिपार्टमेंट्स
  • स्पोर्ट्स ट्रेनिंग फैसिलिटीज
  • हॉस्पिटल्स

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी के कोर्स में एडमिशन पाने की प्रक्रिया क्या है?

फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के सब्जेक्ट के साथ 12वीं कक्षा को 50 पर्सेंट अंको के साथ पास करने के बाद आपको नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन बैचलर आफ फिजियोथैरेपी के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए करना पड़ता है।

1: एंट्रेंस एग्जाम को दें और पास करें

बारहवीं कक्षा को साइंस के विषयों के साथ पास करने के बाद आपको बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी के कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देनी पड़ती है। यह एंट्रेंस एग्जाम थोड़ी कठिन हो सकती है, इसलिए आपको पहले से ही इस एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करनी पड़ती है और इस प्रवेश परीक्षा में आपको अच्छे अंक लाने पड़ते हैं। आपके जितने अच्छे अंक इस एंट्रेंस एग्जाम में आएंगे,आपको उतना ही अच्छा कॉलेज मिलेगा।

What is paramedical and how to do the paramedical course?

2: बैचलर आफ फिजियोथैरेपी की पढ़ाई कंप्लीट करें

एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के बाद आपको बैचलर आफ फिजियोथैरेपी के कोर्स में एडमिशन मिल जाता है,जिसके बाद आपको पूरी लगन के साथ इस कोर्स की स्टडी करनी पड़ती है और ध्यान लगाकर इस कोर्स में पढ़ाई जाने वाली सभी बातों को पढ़ना होता है।

इस प्रकार इस कोर्स की पढ़ाई को पूरा करने के बाद आप इसकी डिग्री हासिल कर लेते हैं,जिसके बाद आप फिजियोथैरेपिस्ट बन करके अपना काम आरम्भ कर सकते हैं।अगर आप इसकी हायर डिग्री लेना चाहते हैं, तो आप मास्टर ऑफ फिजियोथैरेपिस्ट का कोर्स भी कर सकते हैं।

डॉक्टर कैसे बने 2021? – Doctor Kaise Bane in 2021?

बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपिस्ट का कोर्स करने के बाद क्या सैलरी मिलेगी?

बैचलर आफ फिजियोथैरेपी का कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलेगी, यह इस बात पर आधारित होती है कि आप गवर्नमेंट नौकरी कर रहे हैं या फिर प्राइवेट नौकरी कर रहे हैं।गवर्नमेंट जॉब में आपको स्टार्टिंग में ₹25000 से लेकर ₹30000 तक की सैलरी प्राप्त हो सकती है और प्राइवेट जॉब में आपको स्टार्टिंग में ₹16000 से लेकर ₹21000 तक की सैलरी प्राप्त हो सकती है।

नर्स कैसे बने, कोर्स और कॉलेज के बारे में भी जानें | How to become nurse in India

FAQ:

Q: बैचलर आफ फिजियोथैरेपी कोर्स की फीस कितनी होती है?

Ans: गवर्नमेंट और प्राइवेट कॉलेज में इस कोर्स की फीस अलग-अलग होती है?

Q: बीपीटी को क्या कहते हैं?

Ans: बीपीटी को ही बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी कहा जाता है।

Q: बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी करने के बाद क्या कर सकते हैं?

Ans: आप उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए मास्टर ऑफ फिजियोथेरेपी का कोर्स कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!