सुमन योजना – सुरक्षित मातृत्‍व आश्‍वासन योजना (PMSMA) के लिए आवेदन

भारत सरकार ने गर्भवती महिलाओ के लिए  एक नई योजना की शुरुआत की है. जिसका नाम है “सुमन योजना” . इस योजना के तहत हर गर्भवती महिला को सुरक्षित मातृत्व की गांरटी दी जाएगी. सुमन योजना का पूरा नाम “प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्‍व आश्‍वासन योजना” (PMSMA) है।

सुरक्षित-मातृत्व-आश्वासन-सुमन-योजना-2019

सुमन योजना (PMSMA) के अंतर्गत प्रसव के दौरान होने वाले सारे खर्च भी सरकार ही उठाएगी, प्रसव नॉर्मल हो या ऑपरेशन से सरकार प्रसव का सारे खर्चे का भुगतान करेगी इसके आलावा प्रसव के पहले बहुत सारे टेस्ट कराने जरूरी होते हैं जो कि अक्सर पैसे के कमी के कारण महिलाएं नहीं करवाती हैं इसलिए प्रसव से पहले होने वाले टेस्ट भी सरकार ही करवाएगी यही नहीं, प्रसव के पहले महिला को अस्पताल तक लाने और बाद में वापस घर जाने के लिए मुफ्त एंबुलेंस उपलब्ध कराया जाएगा।

ये भी पढ़े : –  पीएमसीएच से लेकर किसी भी अस्पताल का ऑनलाइन पर्ची काटे

PMSMA (सुमन)  योजना में 6 महीनों तक मां और बच्चे को मुफ्त में दवाइयां भी मुहैया कराएगी. इसके अलावा नवजात बच्चे के किसी भी तरह की बीमारी से ग्रस्त होने की स्थिति में उसका सारा खर्च भी सरकार ही उठाएगी. इस योजना का लाभ सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने एक ‘सर्विस गारंटी चार्टर’ जारी किया है। सुमन योजना में दूरदराजों के इलाकों में रहने वाली महिलाओं को इस योजना का लाभ पहुंचाने के लिए विभिन्न सहायता समूहों, स्वच्छता समितियों और एनजीओ की मदद ली जाएगी।

सुमन योजना में प्रसव के दौरान निम्नलिखित मिलने वाला लाभ- 

  • प्रसव के दौरान होने वाले सारे खर्च भी सरकार ही उठाएगी।
  • डिलीवरी के 6 माह बाद तक महिला तथा शिशु को मुफ्त इलाज और निशुल्क दवाएं।
  • घर से अस्पताल तक निशुल्क परिवहन सुविधा।
  • पहली तिमाही के दौरान एक चेक-अप की सुविधा।
  • आयरन फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन की सुविधा।
  • टिटनेस डिप्थेरिया टीकाकरण की सुविधा।

सुमन  योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

गर्भवती महिलाओं को सुमन योजना का लाभ लेने के लिए  अपने क्षेत्र के एएनएम / आशा / स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से संपर्क करना होगा जिससे वे निकटतम सरकारी स्वास्थ्य सुविधा के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें जहां पर सुमन योजना का लाभ दिया जाता है । जिसके बाद जब गर्भवती महिला सरकारी स्वास्थ्य सुविधा का दौरा करती है, तो उसे सुमन योजना के सेवाएं प्रदान करने के लिए रजिस्टर किया जाता है, और सेवाओं का निम्नलिखित सेट प्रदान किया जाता है:-

  1. एएनएम / स्टाफ नर्स पीएमएसएमए केंद्र में आने वाली गर्भवती महिला को पंजीकृत करेगी और उसे एक मदर एंड चाइल्ड प्रोटेक्शन कार्ड और सुरक्षित मातृत्व पुस्तिका प्रदान करेगी।
  2. स्टाफ नर्स / एएनएम गर्भवती महिला की ऊंचाई और वजन लेगी, उसकी पल्स और बीपी की जांच करेगी और निष्कर्षों को रिकॉर्ड करेगी और डायग्नोस्टिक्स के लिए मां को प्रयोगशाला में भेजेगी।
  3. लैब जांच: हीमोग्लोबिन, मूत्र एल्बुमिन और चीनी, मलेरिया, वीडीआरएल, एचआईवी, रक्त समूहन, जीडीएम के लिए स्क्रीनिंग ओजीटीटी का उपयोग करना आदि।
  4. अल्ट्रासोनोग्राफी (USG): जाँच रिपोर्ट और USG रिपोर्ट की रिपोर्ट के आधार पर, उन महिलाओं के MCP कार्ड पर एक लाल स्टीकर / स्टांप जोड़ा जाएगा जो उच्च रिस्क जोखिम वाले पाए जाते हैं।
  5. MCP कार्ड पर लाल स्टीकर वाली गर्भवती महिलाओं को प्रसूति रोग विशेषज्ञ / चिकित्सा अधिकारी की सलाह पर पास की सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं का दौरा करना होगा और एक ऐसी सुविधा में प्रसव की योजना बनानी चाहिए जो सुनिश्चित आपातकालीन प्रसूति देखभाल सेवाएं प्रदान करें।

Suman-yojna

PMSMA Nearest Health Facility –

नजदीक के PMSMA जानने के लिए https://pmsma.nhp.gov.in पर जाना होगा जहाँ Reach to Nearest Facility का ऑप्शन मिलता है जिसपे क्लिक करने पर नया पेज https://pmsma.nhp.gov.in/pmsma-nearest-health-facility का खुल जाता है जहाँ राज्य और जिला चुनने के बाद सभी सेण्टर का नाम और CMO का डिटेल आ जाता है

Pradhan-Mantri-Surakshit-Matritva-Abhiyan-Programme-CMO0details

इसके आलावा सुमन योजना के लिए मोबाइल एप्प भी जारी किया गया है जो की गूगल प्ले स्टोर से PMSMA डाउनलोड कर सकते है सुमन योजना से सम्बंधित आपके पास कोई प्रश्न है तो कृपया कमेंट कर के पूछे | हम उसका जबाब जल्द से जल्द देने के कोशिश करेंगे।

सभी Important News पाने के लिए ग्रुप को JOIN कर पेज को LIKE करें

Whatsapp GroupClick Here
Telegram GroupJOIN Now
Facebook PageClick Here

3 thoughts on “सुमन योजना – सुरक्षित मातृत्‍व आश्‍वासन योजना (PMSMA) के लिए आवेदन”

  1. राजेश

    दूसरी बार मां बनने वाली महिलाओं को कौन सा लाभ मिल पाएगा

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!