एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स फीस कॉलेज की जानकारी

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स: आज भारत के आसपास के देशों के साथ साथ विश्व के अलग-अलग कोनों से लोग आकर मेडिकल सुविधाएं ले रहे हैं, ज्यादातर विदेशी नागरिक किसी भी सर्जरी के लिए भारत में आना पसंद करते हैं।

भारत में अच्छी मेडिकल सुविधाएं हैं लेकिन इन सभी सुविधाओं को आम लोगों तक पहुंचाने के लिए सरकार के साथ-साथ और भी कंपनियां या फिर संगठन बहुत प्रयास कर रहे हैं।

आज शहरों के साथ-साथ गांव में भी अस्पताल, नर्सिंग होम, क्लीनिक और मेडिकल मदद पहुंचाने वाले एनजीओ अपना काम कर रहे हैं। जैसे-जैसे मेडिकल क्षेत्र में तरक्की हो रही है वैसे वैसे एंबुलेंस की संख्या भी बढ़ती जा रही है।

 वैसे तो भारत में सभी मेडिकल और पैरामेडिकल कोर्स करने के बाद नौकरी के अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं लेकिन एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स एक ऐसा कोर्स है जिसके बाद आप कम समय में बहुत अच्छी नौकरी पा सकते हैं।

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स क्या होता है?

मेडिकल के क्षेत्र में यह एक ऐसा कोर्स होता है जिसे करने के बाद कोई भी व्यक्ति एंबुलेंस या किसी अन्य स्थान पर एंबुलेंस असिस्टेंट के तौर पर काम कर सकता है। अगर आप एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने में रुचि रखते हैं तो इसके लिए आप तीन प्रकार के कोर्स कर सकते हैं, एंबुलेंस के असिस्टेंट सर्टिफिकेट कोर्स, डिप्लोमा इन इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी कोर्स, बैचलर इन इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी कोर्स।

सर्टिफिकेट इन एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स  महीने से लेकर 12 महीने तक हो सकता है और डिप्लोमा इन इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी कोर्स लगभग 2 साल का कोर्स होता है और इस कोर्स में आपको इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी के बारे में पढ़ाया जाता है।

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स
Ambulance-Assistant-Course

इस कोर्स में पढ़ाई जाने वाले सभी विषयों को 4 सेमेस्टर में बांटा गया है, हालांकि बैचलर इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी कोर्स स्नातक स्तर का एक कोर्स है और यह कोर्स 3 साल का होता है। इस कोर्स में विषयों को 6 सेमेस्टर के अनुसार बांटा जाता है। प्रत्येक सेमेस्टर के बाद आपको एक परीक्षा से होकर गुजरना पड़ता है।

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स के बाद का क्या काम होता है?

भारत में मेडिकल क्षेत्र में आने के लिए सबसे ज्यादा किए जाने वाले कोर्स में से एक कोर्स एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स भी है, इस कोर्स के बाद बहुत से लोग एंबुलेंस में कार्य कर रहे हैं। इस कोर्स को करने के बाद आपको एंबुलेंस में लाए जाने वाले मरीजों की देखभाल करनी होती है इसी के साथ आपको आपातकाल की स्थिति में उनको जरूरी दवाइयों के साथ-साथ कुछ और मेडिकल सेवाएं देनी होती है।

एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के बाद आप सरकारी हेनरी हॉस्पिटल के साथ-साथ नर्सिंग होम में इमरजेंसी रूम टेक्नीशियन का काम कर सकते हैं, निजी क्लिनिक में मेडिकल असिस्टेंट का काम कर सकते हैं, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में एकेडमिक ट्रेनर के रूप में काम कर सकते हैं, मेडिकल राइटिंग कर सकते हैं या फिर हेल्थ इंफॉर्मेशन टेक्नीशियन बन सकते हैं।

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के लिए क्वालीफिकेशन क्या है?

एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के लिए आप तीन प्रकार के कोर्स में से किसी भी एक को चुन सकते हैं, हालांकि अगर आप कम समय में नौकरी पाना चाहते हैं तो आप सर्टिफिकेट कोर्स चुनें, और अगर आप समय की चिंता नहीं करते और भविष्य में अच्छी नौकरी पाना चाहते हैं तो डिप्लोमा या बैचलर कोर्स कर सकते हैं। एंबुलेंस असिस्टेंट के तीनों ही कोर्स करने के लिए अलग-अलग क्वालिफिकेशन जरूरी होती है।

एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के लिए आपके पास मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं पास किए हुए सभी जरूरी दस्तावेज होने चाहिए। 12 वीं में आपके पास फिजिक्स केमिस्ट्री बायोलॉजी या फिजिक्स केमिस्ट्री गणित विषय का होना जरूरी है।

हालांकि कुछ ट्रेनिंग सेंटर में सर्टिफिकेट कोर्स करने के लिए 12वीं में विज्ञान का होना अनिवार्य नहीं है।

बैचलर इन इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी या डिप्लोमा इन इमरजेंसी मेडिकल टेक्नोलॉजी कोर्स करने के लिए आपके 12वीं में कम से कम 50% अंको से अधिक अंक होने चाहिए।

Also Read… Ambulance Assistant Course Detail, fee, qualification

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के लिए उम्र सीमा क्या है?

अक्सर भारत में सभी कोर्स के लिए कुछ ना कुछ एज लिमिट होती है, एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स भी एक ऐसा ही कोर्स है जिसमें आपको आवेदन करने के लिए आयु सीमा को ध्यान में रखना होगा। एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स एक ऐसा कोर्स है जिसे करने के लिए आपकी आयु कम से कम 18 साल होनी चाहिए।

ज्यादातर कॉलेज में एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के लिए अधिकतम आयु सीमा बताई नहीं जाती है हालांकि इस कोर्स के लिए अधिकतम आयु सीमा 25 वर्ष है।

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के बाद सैलरी कितनी होती है?

एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के बाद आप को रोजगार के अवसर मिलेंगे साथ ही साथ आप अच्छी जगह काम कर अच्छी सैलरी भी पा सकते हैं। एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करने के बाद आप अलग-अलग स्थानों पर एंबुलेंस असिस्टेंट के तौर पर काम कर सकते हैं।

 इस कोर्स को करने के बाद आपको बहुत अच्छी सैलरी मिलती है। यह सैलरी 15000 से 45000 के बीच हो सकती है।

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स के लिए टॉप कॉलेज कौन से है?

भारत में अक्सर लोग किसी भी कोर्स को एक अच्छे कॉलेज से करना पसंद करते हैं, जिसके बहुत से कारण हैं जिनमें से पहला शिक्षा की गुणवत्ता है, अक्सर माना जाता है कि टॉप कॉलेज में शिक्षा की गुणवत्ता बहुत अच्छी होती है। एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स एक ऐसा कोर्स है जिसे करने के लिए अगर आप किसी टॉप कॉलेज का चयन करेंगे तो आपको जल्द से जल्द नौकरी मिल सकेगी।

 इसी के साथ आपको इंटरव्यू के दौरान भी प्राथमिकता दी जा सकती है। भारत में एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स के लिए टॉप कॉलेज कॉलेज निम्नलिखित हैं-

  • Institute of Paramedical Science and Management
  • VIVO Healthcare
  • Tech Mahindra SMART Academy for Healthcare, Delhi
  • NIMT – National Institute of Management and Technology
  • School of Nursing and Health Sciences
  • Noida International University
  • Delhi Paramedical and Management Institute
  • Virohan Institute of Health and Management Sciences
  • Cradle of Management Institute

Jharkhand Bhulekh Khatauni

एम्बुलेंस असिस्टेंट कोर्स कैसे करें?  

बहुत से लोग एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स करना चाहते हैं और इस कोर्स के जरिए मेडिकल क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, आज एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स कराने के लिए बहुत से कॉलेज मौजूद हैं जिनमें आप अलग-अलग प्रकार के एंबुलेंस असिस्टेंट के कोर्स कर सकते हैं।

 जैसे जैसे अस्पतालों की संख्या बढ़ रही है साथ ही साथ सरकारी एंबुलेंस की संख्या भी बढ़ाई जा रही है तो इस कोर्स को करने के बाद आप आसानी से रोजगार पा सकते हैं। इस कोर्स को करने के लिए आपको नीचे दी हुई प्रक्रिया पर ध्यान देना होगा और इसे पढ़ने के बाद आप भी इस पोस्ट को करने की प्रक्रिया समझ पाएंगे।

#1. 10वीं या 12वीं पास करें

एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स में डिप्लोमा और डिग्री के साथ-साथ एक सर्टिफिकेट कोर्स भी कराया जाता है, डिप्लोमा और डिग्री कोर्स करने के लिए आपका 12वीं पास होना अनिवार्य है वही सर्टिफिकेट कोर्स में दसवीं पास वाले छात्रों को भी आवेदन करने दिया जाता है। इनमें से किसी भी कोर्स को करने के लिए आपको 10वीं या 12वीं पास करना होगा।

#2. कॉलेज में आवेदन फॉर्म भरे

जैसे ही आप 10वीं या 12वीं पास कर लेंगे तो इसके बाद आपको कॉलेज को संपर्क करना होगा इसी के साथ आपको अपने कोर्स के अनुसार कॉलेज में आवेदन फॉर्म भरना होगा। आवेदन फॉर्म भरने के बाद आपको कॉलेज के द्वारा आगे की जानकारी दी जाएगी।

#3. एडमिशन लीजिए

जैसे ही आप अपने कोर्स के अनुसार कॉलेज में आवेदन करेंगे तो कॉलेज प्रशासन द्वारा आपको एडमिशन से जुड़ी जरूरी जानकारियां दी जाएंगी इसी के साथ आपको एडमिशन की दिनांक भी दी जाएगी, आपको बताई हुई दिनांक पर कॉलेज में जाकर एडमिशन कराना होगा।

#4. कोर्स के समय तक क्लासेस लें और परीक्षा में बैठे।

एंबुलेंस असिस्टेंट कोर्स एक ऐसा कोर्स है जिसको ज्यादातर कॉलेज में रेगुलर मोड पर कराया जाता है, इस कोर्स को करने के लिए आपको इस कोर्स के दौरान दी गई ज्यादा से ज्यादा क्लास मैं बैठना होगा और साथ ही साथ समय-समय पर होने वाली परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।

#5. सर्टिफिकेट या डिग्री लीजिए।

जैसे ही आप आपके द्वारा चुने गए कोर्स के अनुसार बताए गए समय तक कक्षाएं लेते रहेंगे और समय-समय पर होने वाली परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करेंगे तो इसके बाद आपको कॉलेज या यूनिवर्सिटी के द्वारा सर्टिफिकेट या डिग्री दी जाएगी, इसके बाद ही आप इस सर्टिफिकेट या डिग्री का इस्तेमाल कर नौकरी के लिए इंटरव्यू दे पाएंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!