डेयरी टेक्नोलॉजी कोर्स कर डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट कैसे बनें

पिछले कई दशकों से भारत दुग्ध उत्पादन और उससे जुड़े क्षेत्र तेजी से विकास किए है। पहली जून को पुरे दुनिया में वर्ल्ड मिल्क डे मनाया जाता है दूध दुनिया भर में एक पौष्टिक आहार है और दुग्ध उत्पादन रोजगार का अहम स्रोत. ऐसी में अगर आप डेयरी सेक्टर के विकास के लिए डेयरी टेक्नोलॉजी (Dairy Technology) का कोर्स कर डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट (dairy technologist) के रूप में अपना करियर बनाना चाहते है तो आपका करियर संभावनाओं से भरा हो सकता है भारत में डेयरी सेक्टर (Dairy Industry ) एक बड़ा कार्य क्षेत्र है और डेयरी टेक्नोलॉजी इस कार्यक्षेत्र का एक अहम हिस्सा है. देश में डेयरी सेक्टर के तेजी से विस्तार ने इस क्षेत्र में कुशल पेशेवरों की मांग में लगातार इजाफा किया है. इसलिए डेयरी टेक्नोलॉजी में कोर्स करनेवाले उम्मीदवारों के पास इस क्षेत्र में बहुत अधिक संभावनाएं और करियर के अवसर हैं.

आज के इस डेरी टेक्नोलॉजी के पोस्ट में मैं आपको बताने जा रहा हूँ की डेरी टेक्नोलॉजी क्या है डेरी टेक्नोलॉजी कोर्स कैसे कर सकते है और इस कोर्स के करने के बाद डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट के रूप में कैसे अपना करियर बना सकते है.

डेयरी टेक्नोलॉजी क्या है?

Dairy technology एक तरह से साइंस और इंजीनियरिंग के मेल से बना है, जिसमें मिल्क प्रोसेसिंग और प्रोडक्शन का अध्ययन किया जाता है. यह विषय फूड टेक्नोलॉजी और प्रोसेसिंग इंडस्ट्री का एक हिस्सा है, जिसमें बायोकेमिस्ट्री, बैक्टीरियोलॉजी और न्यूट्रिशन साईस का इस्तेमाल करके दूध, दही, पनीर, मक्खन, घी, छाछ और आइसक्रीम, जैसे विभिन्न डेयरी उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, डिस्ट्रीब्यूशन और ट्रांसपोर्टेशन किया जाता है. डेयरी टेक्नोलॉजी के तहत मूल रूप से डेयरी उत्पादों को तकनीक की सहायता से उपयोगी बनाने का काम किया जाता है।

डेयरी टेक्नोलॉजी से डिग्री हासिल करने के बाद सरकारी एवं प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में जॉब के मौके मिलते हैं. आप ग्रामीण बैंक, मैन्युफैक्चरिंग फर्म, मिल्क प्रोडक्ट प्रोसेसिंग एवं डेयरी फर्म आदि में नौकरी हासिल कर सकते हैं. भारत में दुग्ध क्रांति यानी श्वेत क्रांति के बाद डेयरी इंडस्ट्री में बहुत बदलाव आया और किसानों, ग्रामीणों के साथ-साथ बड़े पैमाने पर युवाओं को रोजगार मिला. ऑपरेशन फ्लड के तहत देशभर में बड़े पैमाने पर दुग्ध उत्पादकों को मिलाकर ग्राम सहकारी समितियों की स्थापना की गयी. इसमें फादर ऑफ द हाइट रिवॉल्यूशन के नाम से प्रसिद्ध वर्गीज कुरियन की अहम भूमिका रही. इसके बाद इस क्षेत्र में लगातार नयी संभावनाएं विकसित हुई हैं.

डेयरी इंडस्ट्री की भविष्य संभावनाएँ

भारत डेयरी प्रोडक्टस का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता है। 2016 में, बिजनेसवायर के अनुसार, भारतीय डेयरी इंडस्ट्री का मूल्य 5,000 बिलियन रुपये था। वर्तमान में संगठित क्षेत्र (ऑर्गेनाइज्ड सेक्टर) इस बाजार का केवल 20% हिस्सा है, 46 प्रतिशत अभी भी असंगठित(अनऑर्गेनाइज्ड) है, और 34% स्थानीय रूप से खपत होती है। ये आंकड़े बताते हैं कि भारत में संगठित डेयरी इंडस्ट्री के लिए अपार संभावनाएं हैं। यदि बाजार नहीं बढ़ता है, तो संगठित क्षेत्र (ऑर्गेनाइज्ड सेक्टर) अभी भी चार गुना बढ़ सकता है। इस क्षमता का मतलब है कि इस डेयरी टेक्नोलॉजी सेक्टर में करियर बनाने के लिए उच्च संभावना है। आइसक्रीम बाजार प्रति वर्ष 15-20% की दर से बढ़ रहा है, और पनीर की इंडस्ट्री प्रति वर्ष 31% से अधिक की दर से बढ़ रहा है।

डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट के लिए जरूरी गुण

डेयरी टेक्नोलॉजी एवं डेयरी उत्पादों के क्षेत्र में विशेष रुचि रखनेवालों के लिए यह एक बेहतरीन विषय है.इस विषय के साथ आगे बढ़ने के लिए गहरी रुचि के अलावा कुछ गुणों और कौशल का होना भीजरूरी है.यह क्षेत्र अपने काम के प्रति प्रतिबद्धता, मेहनत, टीमवर्क, प्रबंधन कौशल, समस्या का समाधान करने की कुशलता, अच्छी टेक्निकल स्किल साइंटिफिक नॉलेज की मांग करता है. इसके साथ ही आपका जिज्ञासुमनइस कार्यक्षेत्र में आपको आगे बढ़ा सकता है.

आगे बढ़ रही है डेयरी इंडस्ट्री

देश में दुग्ध उत्पादन में बीते छह साल में 44 फीसदी का इजाफा हुआ है. डेयरी सेक्टर में बीते पांच साल में सालाना 6 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि रही है. डेयरी सेक्टर करियर के अच्छे मौके के साथ बड़े पैमाने पर युवाओं को स्वरोजगार के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में भूमिका निभाने का मौका दे रहा है. डेयरी बिजनेस में सफलता हासिल करनेवालों की कई कहानियां इंटरनेट पर पढ़ी जा सकती हैं. डेयरी टेक्नोलॉजी इस कार्य क्षेत्र का अहम हिस्सा है. आप अगर स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद इस विषय के साथ आगे बढ़ते हैं, तोएक संभावनाओं भरे करियर में दाखिल हो सकते हैं.

डेयरी टेक्नोलॉजी कोर्स

देश के कई विश्वविद्यालय और कॉलेज इस विषय में अंडर ग्रेजुएट व पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स संचालित करते हैं. कुछ संस्थान इसमें डिप्लोमा कोर्स भी संचालित करते हैं. आप अपनी योग्यता एवं रुचि के मुताविक डेयरी टेक्नोलॉजी में डिग्री या डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं.

कोर्स योग्यता अवधि
डिप्लोमा इन डेयरी टेक्नोलॉजी 10+2 (PCM) 2 वर्ष
बीएससी इन डेयरी टेक्नोलॉजी 10+2 (PCM) 4 वर्ष
बीटेक इन डेयरी टेक्नोलॉजी 10+2 (PCM) 4 वर्ष
एमटेक इन डेयरी टेक्नोलॉजी स्नातक 2 वर्ष
एमएससी इन डेयरी टेक्नोलॉजी स्नातक 2 वर्ष

डेयरी टेक्नोलॉजी में कुछ लोकप्रिय कोर्स हैं बीटेक, बीएससी, एमटेक, एमएससी. मास्टर्स के बाद पीएचडी करने का भी विकल्प है, साइंस विषयों के सथ 12वीं करने के बाद आप Dairy technology के यूजी कोर्स में दाखिला हासिल कर सकते हैं. डेयरी टेक्नोलॉजी के बीटेक कोर्स में प्रवेश के लिए आइसीएआरएनटीए की ओर से आयोजित ऑल इंडिया एंट्रेंस एग्जामिनेशन फॉर एडमिशन (एआइइइए) पास करना होगा. एआइइइए 2021 का नोटिफिकेशन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी जल्द जारी करेगी. Dairy technology के साथ आप डेयरी इंजीनियरिंग, डेयरी इकोनॉमिक्स, डेयरी केमिस्ट्री, डेयरी कैटल न्यूट्रिशन आदि में स्पेशलाइजेशन भी कर सकते हैं.

डेयरी टेक्नोलॉजी कोर्स शैक्षिक योग्यता

डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट बनने के लिए आपको अपनी स्कूली पढ़ाई फ़िज़िक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स के साथ पूरी करनी पड़ेगी और उसके बाद आप डेयरी टेक्नोलॉजी में बी.टेक का अंडर ग्रैजुएट कोर्स कर सकते हैं।

  • बीटेक पूरा करने के बाद आप भारत से या किसी फॉरेन यूनिवर्सिटी से डेयरी टेक्नोलॉजी में एमटेक का कोर्स कर सकते हैं। एम.ई और एम.टेक में बहुत सी स्पेशलाइजेशन है जैसे कि डेयरी केमिस्ट्री, डेयरी टेक्नोलॉजी, डेयरी इंजीनियरिंग, डेयरी माइक्रोबायोलॉजी और डेरिंग।
  • आप आगे की पढ़ाई के लिए डेयरी टेक्नोलॉजी में पीएच.डी कर सकते हैं |

डेयरी टेक्नोलॉजी में डेयरी मैनेजमेंट कोर्स भी कर सकते है

इस डेयरी सेक्टर में करियर बनाने के इच्छुक युवाओं के पास ग्रेजुएशन के बाद डेयरी मैनेजमेंट में एमबीएयपोस्ट ग्रेजुएड डिप्लोम(पीजीडी) करने काभी विकल्प है. इस कोर्स के बाद आप डेयरी इंडस्ट्री में बतौर मैनेजर अच्छी शुरुआत कर सकते हैं. देश के कई कृषि विश्वविद्यालयों में ये मैनेजमेंट कोर्स संचालित किये जाते हैं. डेयरी मैनेजमेंट में एमबीए या पीजीडी करने के बाद आपके पास बतौरफार्म मैनेजर, डेयरी मैनेजर, फार्म सर्विसेज हेड आगे बढ़ने का मौका होगा.आप चाहें तो खुद का डेयरी व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं.

एक डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट के रूप में करियर राहें हैं यहां

इस क्षेत्र की प्रमुख कंपनियां है अमूल, मदर डेयरी, सांची, परस,नमस्ते इंडिया, गोपालजी, बिहार राज्य दुग्ध सहकारी संघ लिमिटेड (सुधा), ब्रिटेनिया इंडस्ट्रीज, नेस्ले आदि.यह विषय डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट, डेयरीसाइंटिस्ट, माइक्रोबायोलॉजिस्ट, डेयरी प्रोडक्शन मैनेजर, डेयरी मैनेजर, क्वालिटी कंट्रोल ऑफिसर, डेयरीन्यूट्रिशनिस्ट आदि के तौर पर आगे बढ़ने का मौका देता है.

इसके अलावा यहाँ भी नौकरी पा सकते है

  • डेयरी फ़ार्म्स
  • डेयरी को-ऑपरेटिव जैसे अमूल, मदर डेयरी, सरस इत्यादि।
  • आइसक्रीम कंपनियां जैसे वाडीलाल, क्वॉलिटी वॉल, हैवमोर इत्यादि।
  • रिसर्च और विकास एजेंसियाँ।
  • कृषि और डेयरी कॉलेज और यूनिवर्सिटी
  • राज्य सरकार का क्वालिटी कंट्रोल विभाग
  • दूध का उत्पादन करने वाली कंपनियां
  • एफएमसीजी और फूड प्रोडक्शन कंपनियां
  • डेयरी इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग कंपनियाँ

Dairy Technology Colleges/प्रमुख संस्थान

रोज़गार के अवसर

  • डेयरी फार्म डेयरी टेक्नोलॉजिस्ट के सबसे बड़े रेक्रुइटर हैं। एंट्री लेवल पर, आप डेयरी प्लांट सुपरवाइजर की भूमिका में या ग्रैजुएट इंजीनियर ट्रेनी के रूप में एक डेयरी से जुड़ सकते हैं।
  • मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद, आप जूनियर प्रोफेसर या सहायक प्रोफेसर के एंट्री लेवल पोजीशन में यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में भी शामिल हो सकते हैं।
  • मास्टर डिग्री के बाद, रिसर्च लैबोरेटरीज़ और रिसर्च फार्म में आपको सबसे कम ग्रेड वाले रिसर्च सहयोगी अधिकारी के रूप में नियुक्ति मिल सकती है।
  • यदि आप एफएमसीजी या फूड इंडस्ट्री के साथ अपना करियर शुरू करते हैं, तो वे आपको ट्रेनी माइक्रोबायोलॉजिस्ट या ट्रेनी फूड टेक्नोलॉजिस्ट नियुक्त करेंगे।

Dairy Technology salary in India

शुरुआत में आप डेयरी प्लांट सुपरवाइजर या ग्रैजुएट इंजीनियर ट्रेनी के रूप में जुड़ सकते हैं और हर महीने लगभग 20,000 से 30,000 रुपये कमा सकते हैं। अगर आप बतौर सहायक प्रोफेसर जुड़ते हैं, तो आप हर महीने लगभग 60,000 से 70,000 रुपये कमा सकते हैं। प्राइवेट इंडस्ट्री में, आप हर महीने लगभग 20,000 – 30,000 कमा सकते हैं।

2-5 साल के अनुभव के साथ जूनियर लेवल पर, आप हर महीने लगभग 25,000 से 1,00,000 रुपये कमा सकते हैं।

5-10 साल के अनुभव के साथ मिडिल लेवल पर, आप हर महीने लगभग 40,000 से 1,50,000 रुपये कमा सकते हैं।

दस साल से ज़्यादा के अनुभव के बाद सीनियर लेवल पर, आप हर महीने लगभग 50,000 से 2,00,000 रुपये या इससे ज़्यादा कमा सकते हैं।

Dairy से जुड़े कुछ प्रमुख करियर विकल्प इस प्रकार हैं

1. डेयरी केमिस्ट

इस डेयरी केमिस्ट डेयरी प्रोडक्टस की रासायनिक संरचना (केमिकल कंपोजिशन) पर काम करते हैं। वे फैट कंटें, प्रोटीन कंटेंट, लैकटॉस कंटेनट, टोटल सॉलि़ड, पीएच लेवल, एल्कोहल टेस्ट, सक्रॉस कंटेंट, आदि की रासायनिक संरचना (केमिकल कंपोजिशन) के आधार पर प्रोडक्टस की गुणवत्ता (क्वालिटी) की निगरानी करने के लिए काम करते हैं, वे पानी द्वारा मिलावट का पता लगाने के लिए भी काम करते हैं।

2. डेयरी माइक्रोबायोलॉजिस्ट

डेयरी माइक्रोबायोलॉजिस्ट डेयरी प्रोडक्टस में सूक्ष्मजीवों (माइक्रोऑर्गेनिज़म) के विकास पर नज़र रखने का काम करते हैं। वे बैक्टीरिया, फंगल और अन्य सूक्ष्मजीवों (माइक्रोऑर्गेनिज़म) के विकास को नियंत्रित करने के लिए काम करते हैं।

3. डेयरी बिज़नेस मैनेजर

ये डेयरी बिज़नेस मैनेजर डेयरी की सारी सुविधाओं का प्रबंध करने के लिए काम करते हैं। वे प्रबंधकीय (मैंनेजीरियल) समस्याओं को हल करने के लिए कंप्यूटर और गणितीय उपकरणों (मैथमेटिकल टूल्स) का उपयोग करने के साथ डेयरी के प्रबंधन पक्ष (मैनेजमेंट साइड) को देखते हैं।

4. डेयरी इंजीनियर

Dairy engineer पूरी डेयरी की पैदावार में सुधार के लिए टैकनोलजी का उपयोग करते हैं। वे बेहतर योग्यता के साथ निर्माण उपकरण, मशीनरी पर काम करते हैं।

5. डेयरी इकोनॉमिस्ट

ये डेयरी इकोनॉमिस्ट डेयरी व्यवसाय के, वित्तीय (फ़ाइनेंशियल) और वाणिज्यिक (कमर्शियल) पहलू को समझने के लिए काम करते हैं।

Also Read …

एग्रोनॉमी (agronomy) कोर्स कर Agronomist कैसे बन सकते है

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है Artificial Intelligence Course कैसे करें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!