प्रदूषण जांच केंद्र अनुदान तीन लाख तक 2022 में

प्रदूषण जांच केंद्र अनुदान : बिहार सरकार के द्वारा राज्य में प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए तीन लाख का अनुदान दिया जायेगा. यह अनुदान राशि बिहार के सभी प्रखंडों में प्रदूषण जांच केंद्र खोलने वाले व्यक्ति को देगी। सरकार प्रोत्साहन के माध्यम से लाभुकों को प्रदूषण जांच केंद्र खोलने पर लागत का 50 फीसदी तक सहायता देगी। यह राशि तीन लाख तक की होगी। बिहार परिवहन विभाग के द्वारा इसका प्रस्ताव भी तैयार कर लिया गया है। जल्द ही यह प्रस्ताव कैबिनेट के समक्ष ले जाया जाएगा। जहाँ स्वीकृत हो जाने के बाद लोगो को प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए तीन लाख का अनुदान मिलना शुरू हो जायेगा.

प्रदूषण जांच केंद्र पर अनुदान का उदेश्य

प्रदूषण जांच केंद्र खोलने पर अनुदान देने का मुख्य उदेश्य प्रदूषण जांच केंद्र में वृद्धि करना है जिससे अधिक से अधिक केंद्र खोले जा सके और प्रदूषण के स्तर को कम करने में मदद मिल सकें. बिहार के 534 प्रखंडों में से 147 प्रखंडों में प्रदूषण जांच की सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में इन इलाकों में प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए लोगो को तीन लाख का अनुदान दे कर प्रोत्साहित करना है

pollution-janch-kendra-प्रदूषण जांच केंद्र अनुदान
pollution-janch-kendra

अभी मात्र 387 प्रखंडों में ही 1000 से अधिक प्रदूषण केंद्र खुले हुए हैं। जिन प्रखंडों में अभी तक प्रदूषण जांचने का केंद्र नहीं खुल सका है वहां के लोगों को काफी परेशानी हो रही है। उन्हें कई बार ट्रैफिक पुलिस द्वारा पकड़े जाने पर जुर्माना भी देना पर जाता है. आपके जानकारी के लिए बता दु गाड़ियों का प्रदूषण प्रमाण पत्र नहीं होने पर 10 हजार तक जुर्माना का प्रावधान है। जांच केंद्र खोलने के लिए यह राशि सहयोग के रूप में देने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।

• सभी प्रखंडों में केंद्र खोलने को परिवहन विभाग ने बनाया प्रस्ताव
• अभी बिहार के 147 प्रखंडों में खुलना बाकी है प्रदूषण जांच केंद्र

इंटर पास भी खोल सकते हैं वाहन Pradushan Janch Kendra ।

लगभग एक वर्ष पूर्व तक राज्य में मात्र 250 वाहन प्रदूषण जांच केंद्र थे। अब इसकी संख्या बढ़कर एक हजार से अधिक हो गई है। साल 2021 में 1000 और नए वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोले जाएंगे। अधिक से अधिक वाहन प्रदूषणजांच केंद्र खुले और आम लोग भी केंद्रों को चला सकें इसके लिए बिहार मोटर नियमावली, 1992 के नियमों में संशोधन किया गया है। अब इंटर (साइंस) पास व्यक्ति भी वाहन प्रदूषण जांच केंद्र चला सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए ये वाला पोस्ट पढ़े: प्रदूषण जांच केंद्र कैसे खोलें 2021- सिर्फ इंटर पास होने पर puc center khole

पूर्व में वाहन प्रदूषण जांच केंद्र पर मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल या ऑटोमोबाइल अभियंत्रण में डिग्रीधारी या डिप्लोमाधारी को ही वाहन प्रदूषण जांच केंद्र पर रखा जाना आवश्यक था। विभाग की योजना है कि हर प्रखंड में कम से कम एक वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोले जाएं। पेट्रोल पंप, वाहन विक्रय केंद्र एवं सर्विस सेंटर में भी केंद्र खोलने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। चलंत प्रदूषण जांच केंद्रों की स्थापना के लिए भी प्रावधान किये गये हैं।

Pollution Certificate : जाने पॉल्यूशन सर्टिफिकेट क्या है, कैसे बनाये और डाउनलोड करे

आसानी से ऑनलाइन रिन्यूअल होगा लाइसेंस

अब तक प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए राज्य सरकार की ओर से लोगों को कोई सहायता राशि नहीं दी जाती थी, लेकिन अब इसके लिए सहयोग राशि का प्रावधान किया गया है, जिसका लाभ लोगों को मिलेगा और सभी प्रखंडों में आसानी से केंद्र खुल पायेंगे. प्रदूषण जांच केंद्र की स्थापना हो सके इसके लिए राज्य सरकार द्वारा लिये जाने वाले अनुज्ञप्ति, नवीकरण व आवेदन सहित अन्य शुल्क में कमी की गयी है. साथ ही जांच केंद्रों का लाइसेस या लाइसेंस का रिन्यूअल आसानी से हो सके, इसके लिए ऑनलाइन शुल्क जमा करने की व्यवस्था की गयी है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *