कोडिंग क्या होता है और कोडिंग कैसे सीखते हैं 2022

कोडिंग क्या है | कोडिंग क्या होता है | कोडिंग का हिंदी अर्थ | कोडिंग कैसे करें | कोडिंग कैसे सीखी जाती है | what is coding in hindi | what is coding in hindi explain | what is coding for kids | how to learn coding for free | how to learn coding for beginners | कोडिंग या प्रोग्रामिंग

आज के इस दौर में मोबाइल और कंप्यूटर का बोलवाला है जिसको चलाने के लिए कंप्यूटर प्रोग्राम, मोबाइल एप, वेबसाइट, गेम्स या फिर सॉफ्टवेयर की जरुरत पड़ता है लेकिन क्या आपको पता है की ये सब कैसे बनता है तो आपको बता दू की ये सारे कोडिंग के द्वारा बनाया जाता है. आप जो मोबाइल या कंप्यूटर चलाते है वो सब सिर्फ Coding की भाषा समझता है इसलिए Coding के द्वारा ही कंप्यूटर या मोबाइल को को बताया जाता है कि उसे क्या काम करना है। अगर आपको कोडिंग आती है तो आप आसानी से कोई भी वेबसाइट्स, सॉफ्टवेयर या मोबाइल ऍप बना सकते हैं।

अगर आपको कंप्यूटर प्रोग्राम, मोबाइल एप, वेबसाइट्स, गेम्स या फिर सॉफ्टवेयर बनने में दिलचस्पी है तो coding में करियर बना सकते हैं। कोडिंग की जरूरत लगभग हर क्षेत्र में पड़ती है। ऐसे में कोडिग सीखने का अर्थ है, करियर में अपार संभावनाएं।

Coding क्या है?

कोडिंग को आमतौर पर प्रोग्रामिंग के नाम से जाना जाता है। कंप्यूटर या स्मार्टफोन में जितने भी एप या सॉफ्टवेयर काम करते हैं, उसके लिए coding जरूरी होता है। क्योंकि कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर या हार्डवेयर डिवाइस कोडिंग की ही भाषा समझता है।  जिसके करना कोडिंग के जरिए ही कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर या हार्डवेयर डिवाइस को पता चलता है कि उसे क्या काम करना है यानी कंप्यूटर, वेबसाइट या ऍप जिस भाषा को समझता है उसे कोडिंग कहा जाता है।

कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर या एप में हमे कोडिंग या प्रोग्रामिंग नहीं दिखती है, हमे सिर्फ वही दिखता है जो जो हम कर रहे होते है, क्योकि कोडिंग या प्रोग्रामिंग बैक एन्ड, मतलब पीछे का काम होता है, जो होता तो है लेकिन दिखता नहीं है जैसे अगर आप कोई फिल्म देखते है तो उसमे हीरो, हेरोइन दिखता है लेकिन जो उसका वीडियो बनाता है जिसको कैमरामैन कहते है वो की नहीं दिखता.

coding-kaise-sikhe-hindi-mein-कोडिंग क्या होता है
coding kaise sikhe hindi mein

अगर आप देखना चाहते हैं कि आखिरकार कोडिंग कैसे होती है, तो आप किसी भी वेबसाइट को ओपन करें और Ctrl+U प्रेस कर दें। जिसके बाद एक नया पेज खुल जायेगा उस वेबसाइट के लिए लिखी गई coding भाषा का प्रोग्राम दिख जायेगा। यही कोडिंग है। इस कोडिंग को कायदे से करने के लिए प्रोफेशनल्स को बहुत सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखनी होती हैं, जिनमें html, CSS, java, PHP आदि प्रमुख रूप से शामिल हैं।

जब भी आप कोडिंग सीखना शुरू करे तो सबसे पहले Python और javascript को सिखे क्योंकि इसे आप आसानी से सिख लेंगे और आप वेब डेवलपमेंट से ले कर ऍप डेवलपमेंट तक आसानी से कर पाएंगे।

कुछ महत्पूर्ण coding लैंग्वेज के नाम

वैसे तो कोडिंग के काफी सारा प्रोग्रामिंग भाषाएं मौजूद हैं। जिसमे से कुछ प्रमुख प्रोग्रामिंग भाषाएं और उसके महत्व इस प्रकार है:-

महत्पूर्ण कोडिंग लैंग्वेज या प्रोग्रामिंग
  1. C++ :- C++ एक बहुत ही पावरफुल Programming Language है इसका प्रयोग गेम्स और ऑपरेटिंग सिस्टम को तैयार करने में किया जाता है।
  2. JAVA :- Java सबसे ज्यादा सिंपल और आसान Programming Language है इसका प्रयोग हम app बनाने के सबसे ज्यादा किया जाता है एंड्राइड ऍप के पॉपलुर होने से पहले लगभग सभी ऍप Java में ही बनते थे.
  3. HTML:- आज कल सबसे जायदा वेबसाइट HTML में ही बनाया जाता है HTML में छोटे-छोटे कोड होते है जो मिलकर पूरी एक सीरीज बनाते है। जिसको भी बेसिक html आता है वो वेबसाइट बना सकता है html Coding लिखने के लिए  notepad या notepad++ सॉफ्टवेयर इस्तेमाल किया जाता है.
  4. CSS:- CSS का इस्तेमाल वेबसाइट के Layout, design, colour, Fonts को customize करने में होता है। यह  HTML से अलग होता है मतलब html के साथ या अलग उपयोग किया जा सकता है।
  5. PYTHO:-यह HTML, CSS, और JAVASCRIPT से अलग है। इसका ज्यादातर उपयोग डेटा साइंस में किया जाता है।
  6. RUBY:- RUBY का उपयोग ज्यादातर वेब एप्लीकेशन के डिज़ाइन के लिए किया जाता है और यह एक तरीका का General Coding Language है

किस कक्षा में सिख सकते है coding?

नई शिक्षा नीति के अनुसार छात्र कक्षा 6वीं से कोडिंग सिख सकता है। नरेंद्र मोदी की सरकार द्वारा अनुमोदित नई शिक्षा नीति के अनुसार, छात्र को  कोडिंग एक विषय के रूप में 6वीं कक्षा से ही सिखाई जाएगी। मतलब साफ़ है अब कोडिंग सीखने के लिए बड़ी डिग्री की जरूरी नहीं है सिर्फ आपके पास टेक्निकल नॉलेज होनी चाहिए। लेकिन हां, अगर आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग करके इस क्षेत्र  में आगे बढ़ते हैं तो आपके सीखने की रफ्तार और स्किल्स दूसरों से बहुत अलग होगी।

html-coding-kaise-sikhe-कोडिंग या प्रोग्रामिंग
html-coding-kaise-sikhe

कोडिंग सिखने के लिए आप इंस्टिट्यूट में एडमिशन करा सकते है जहाँ कोडिंग या प्रोग्रामिंग सिखाई जाती हो. वहाँ एडमिशन लेने के बाद सबसे पहले कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (Computer Programming Language) सिखाया जायेगा, क्योकि यह सबसे पहला और आसान लैंग्वेज है अगर आपने C Programming सिख लिया तो बाकी कंप्यूटर लैंग्वेज जैसे जावा लैंग्वेज (Java Language), सी प्लस प्लस (C++) इत्यादि आसानी से सिख सकते है.

वही बात करे ऑनलाइन की तो यूट्यूब पर काफी वीडियो टुटोरिअल मिल जायेगे जिससे देख कर प्रैक्टिस करने से आप कोडिंग सिख सकते है वही अगर वेबसाइट की मदद लेना चाहते है तो https://www.w3schools.com/ वेबसाइट का मदद ले सकते है जो आपको काफी हेल्प करेगा कोडिंग सिखने में.

एक बात आपको ध्यान देना है कोडिंग आप कही से सीखे इससे सबसे इम्पोटेंट प्रैक्टिकल ट्रेनिंग होगा जो अच्छे से करना होगा, ताकि आपको coding का सभी जानकारी मिल जाये. आप जितने अच्छे से प्रैक्टिकल ट्रेनिंग लेंगे उतने अच्छे प्रोग्रामर बन सकते है. वही बात करे ऑनलाइन सिखने की तो इंटरनेट की इस युग में कोडिंग सीखने के काफी भाषाओं में वीडियो ट्यूटोरियल ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं जहाँ से आसानी से सीख सकते है।

गूगल के एप ग्रासहॉपर से फ्री में सीखे कोडिंग

सर्च इंजन गूगल ने कोडिंग सिखने की चाहत रहने वालो के लिए ग्रासहॉपर नाम का एक ऐप/वेबसाइट लॉन्च किया है। जिससे लोग घर बैठे ऑनलाइन कोडिंग सिख सकते है ग्रासहॉपर ऐप को एंड्रॉयड और iOS प्लेटफॉर्म से  फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है।

अगर आप कोडिंग के क्षेत्र में सफलता पाना चाहते हैं तो आपको इसको गहराई से समझना होगा। coding एक बड़ा विषय है। सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि कोडिंग के क्षेत्र में वह कौन सा क्षेत्र है, जहां आप अपने एप्टिट्यूड के अनुसार करियर चुनना चाहते हैं। मतलब कुछ लोग फ्रंट-एंड डिजाइन को पसंद करते है जबकि कुछ लोग बैक-एंड कोडिंग को पसंद करते है और वो खुद के बेहतर मानते हैं। लेकिन एक कुसल प्रोग्रामर को दोनों की समझ होनी चाहिए, ता की जरुरत पड़ने पर आप दोनों काम कर सके. कोडिंग सिखने के बाद एप डेवलपर, वेब टेक्नोलॉजी, फ्रंट/बैक एंड में ढेर सारे करियर अवसर हैं।

कोडिंग को इन तीन श्रेणियों में बांटा जा सकता है

  1. वेबटेक्नोलॉजी : यह काम एक तरह से फ्रंट एंड/यूएक्स डिजाइन में आता है जिसमे html, CSS, java में काम करना होता है।
  2. सर्वर साइड(बैक एंड) : इसमें पीएचपी, नोड.जेएस और नेट में काम करना होता है।
  3. मोबाइलएपडेवलपमेंटः इसमें मोबाइल एप, आईओएस,विंडो के लिए काम करते हैं।
website coding languages कोडिंग क्या होता है
website coding languages

करियर के विकल्प

आज इंटरनेट पुरे विश्व में इतना व्यापक होता जा रहा है कि हर संस्थान में कंप्यूटर और सभी लोगो के हाथ में स्मार्ट फ़ोन है जिसके लिए ऍप जरूरी होता है। ऐसे में कई बड़े कॉर्पोरेट संस्थान में सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन डेवलपर, वेब डेवलपर, कंप्यूटर सिस्टम्स इंजीनियर, डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर, कम्प्यूटर सिस्टम्स एनालिस्ट, सॉफ्टवेयर क्वालिटी एनालिस्ट इंजीनियर, बिजनेस इंटेलिजेंस एनालिस्ट, कम्प्यूटरप्रोग्रामर समेत काफी पोस्ट पर नौकरी निकलती है जहाँ आप कोडन सिखने के  बाद नौकरी कर सकते है।

ये भी पढ़े:

  • BDO Officer kaise bane
  • डॉक्टर कैसे बने
  • इंजीनियर कैसे बने 
  • एनर्जी मैनेजमेंट कोर्स कैसे करे?

सैलरी कितना मिलता है?

कोडिंग में आप जितना अच्छा होंगे उतना सैलेरी मिल जायेगा. शुरुआत में इंटर्नशिप के दौरान सायद आपको ज्यादा स्टाइपेंड नहीं मिले लेकिन यही टाइम होगा प्रोफेशनली  टिप्स और ट्रिक्स जानने का। जब आप एक्सपर्ट हो जायेगे तो आप करोड़ों रुपये सालाना तक भी कमा सकते हैं। इतना ही नहीं बाहार से काफी काम मिल जायेगा जिसे कर के भी अच्छा इनकम कमा सकते है.

इस पोस्ट में हमने बताया की coding क्या हैं और कोडिंग कोर्स कैसे कर सकते हैं हमें उम्मीद है की आपको सभी जानकारी मिल गया होगा अगर coding पोस्ट से सम्बंधित आपके पास कोई प्रश्न है तो कृपया कमेंट कर के पूछे हम उसका जबाब जल्द से जल्द देने के कोशिश करेंगे।

कोडिंग क्या होता है | कोडिंग क्या होता है

6 thoughts on “कोडिंग क्या होता है और कोडिंग कैसे सीखते हैं 2022”

  1. Pingback: एनर्जी मैनेजमेंट कोर्स कैसे करे? Energy Management in Hindi - Career moka

  2. Pingback: Bihar board inter compartmental form 2021: कंपार्टमेंटल परीक्षा फॉर्म 5 अप्रैल 2021 से भरे

  3. Pingback: Cyber Law Course in Hindi: साइबर लॉ क्या है? और साइबर लॉयर कैसे बनें?

  4. Pingback: Income Tax Inspector या Income Tax Officer (आयकर अधिकारी ) कैसे बनें?

  5. Pingback: एप डेवलपमेंट क्या है? और एप डेवलपर कैसे बने? App Developer Course

  6. Pingback: BRABU:बिहार यूनिवर्सिटी में फिर से शुरू होगा ग्रेजुएशन पार्ट वन में ऑनलाइन आवेदन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!