company secretary course duration syllabus eligibility & salary 2022 – कंपनी सेक्रेटरी

company secretary: बड़ी कंपनियों में बहुत से कानूनों और नियमों का पालन होता हैं। कुछ कंपनियां इन कानूनों को नज़रअंदाज़ कर देती हैं क्यूंकि इन कानूनों को मेन्टेन करना मुश्किल, महंगा और आसानी से संभव नहीं है मगर सरकार ने इनका पालन करना अनिर्वाय बनाया है क्यूंकि यह संगठन की पारदर्शिता के लिए महत्वपूर्ण हैं। अगर आप अपना करियर ऐसे क्षेत्र में बनाना चाहते हैं जहाँ पर आप संगठनों को वैधानिक निकायों द्वारा निर्धारित किये गए नियमों का पालन करने के काम में सहायता कर सकें तो कंपनी सेक्रेटरी बनना आपके लिए एक अच्छा करियर विकल्प हो सकता है।

There are many laws and regulations to be followed in big companies. Some companies ignore these laws because maintaining these laws is difficult, costly and not easily possible but the government has made it mandatory to follow them as they are important for the transparency of the organization. If you want to make your career in a field where you can help the organizations to comply with the rules laid down by the statutory bodies, then becoming a company secretary can be a good career option for you.

एक सेक्रेटरी वह व्यक्ति होता है जिसका काम सहायता और असिस्ट करना होता है। एक कंपनी सेक्रेटरी (कंपनी सचिव) के तौर पर आपको उस  कंपनी के लिए काम करना होगा जो यह  सुनिश्चित करेगी  कि कंपनी का प्रशासन सुचारू रूप से चलता रहे। आपको यह भी पक्का करना होगा की बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर  के सभी फैसलों का किर्यान्वयन  हों।

A secretary is a person whose job is to help and assist. As a Company Secretary, you have to work for that company which will ensure that the administration of the company runs smoothly. You must also ensure that all decisions of the Board of Directors are implemented.

company-secretary-course
company-secretary-course

कंपनी सेक्रेटरी क्या होता है? – what is company secretary course?

कंपनी सेक्रेटरी वो स्पेशलिस्ट होते हैं जो निजी और सार्वजनिक कंपनियों के साथ काम करते हैं और वैधानिक और नियामक (रेगुलेटरी) निकायों का अनुपालन करते हैं। कंपनी सेक्रेटरी यह भी सुनिश्चित करता हैं कि बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स द्वारा लिए गए फैसलों का संगठन में पालन हो। एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर आप कंपनी के एग्जीक्यूटिव फंक्शन्स के लिए ज़िम्मेदार होंगे । आप नियमों, नॉन एग्जीक्यूटिव मेंबर्स के इंडक्शन के साथ-साथ एम्प्लोयी बेनिफिट्स जैसे पेंशन प्लान्स, कॉन्ट्रैक्ट्स का नेगोसिएशन आदि को मैनेज करेंगे ।

Company secretaries are specialists who work with private and public companies and comply with statutory and regulatory bodies. The Company Secretary also ensures that the decisions taken by the Board of Directors are followed in the organization. As a Company Secretary, you will be responsible for the executive functions of the Company. You will manage rules, induction of non-executive members as well as employee benefits like pension plans, negotiation of contracts, etc.

Business-Analyst-salary-in-India
Business-Analyst-salary-in-India

कंपनी सेक्रेटरी का काम मुख्यतः ऑफिस आधारित होता है। फुल टाइम नौकरी में, उन्हें आम तौर पर ऑफिस के स्टैंडर्ड समय में काम करना होता है। एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर, आप आम तौर पर सामान्य घंटों में काम करेंगे, हालाँकि, कभी-कभी लंबी मीटिंग्स के कारण और रिपोर्ट को पूरा करने और काम समय पर पूरा करने के लिए ज़्यादा घंटों तक काम करना ज़रूरी हो जाता है।

The work of Company Secretary is mainly office based. In a full time job, they generally have to work in standard office hours. As a Company Secretary, you will generally work normal hours, however, sometimes due to long meetings and longer hours it becomes necessary to work in order to complete the reports and complete the work on time.

कंपनी सेक्रेटरी के लिए आवश्यक न्यूनतम एजुकेशनल क्वालिफिकेशन – company secretary education qualification

  • 12वीं पास /देने वाले

कक्षा 12 के बाद, आप किसी भी विषय में CS फाउंडेशन प्रोग्राम / ICAI फाइनल कोर्स / ICMAI फाइनल कोर्स / किसी भी डिसिप्लिन में UG (न्यूनतम 50% अंक के साथ)/ किसी भी डिसिप्लिन में PG (न्यूनतम % अंकों के किसी भी क्राइटेरिया (मानदंड) के बिना )और फिर CS बनने का प्रयास करें।

UGC ने हाल ही में CS क्वालिफिकेशन को पोस्टग्रेजुएट डिग्री के समकक्ष मान्यता दी है।

CS एग्जीक्यूटिव प्रवेश परीक्षा के पाठ्यक्रम – company secretary syllabus

एक ही दिन में आयोजित होने वाली CS एग्जीक्यूटिव प्रवेश परीक्षा के पाठ्यक्रम में 2 भाग होते हैं:

a)  कंप्यूटर आधारित MCQ टेस्ट: अवधि: नीचे दिए गए विषयों पर 120 मिनट:

  •     (i) बिज़नेस कम्युनिकेशन;
  •     (ii) लीगल एप्टीट्यूड & लॉजिकल रीज़निंग
  •     (iii) इकोनॉमिक एंड बिज़नेस एनवायरनमेंट &
  •     (iv) करेंट अफेयर्स

b) वाइवा वोस (मौखिक परीक्षा): “प्रेजेंटेशन एंड कम्युनिकेशन स्किल्स” पर 15 मिनट

  •     • क्वालीफाई करने का क्राइटेरिया प्रत्येक विषय में कुल 50% और न्यूनतम 40% अंक होगा।
  •     • टेस्ट की अवधि 135 मिनट (MCQ टेस्ट के लिए 120 मिनट और वाइवा वोस के लिए 15 मिनट) होगी।

नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी।

कंपनी सेक्रेटरी के लिए रोज़गार के अवसर

कंपनियाँ नीचे दिए गए कामों के लिए कंपनी सेक्रेटरी नियुक्त करती हैं:

  • IPO, FPO के माध्यम से कैपिटल मार्केट से रिसोर्स (संसाधन) जुटाना
  • FDI, ECB, ADR/GDR के माध्यम से वैश्विक संसाधन जुटाना
  • कॉर्पोरेट पुनर्निर्माण को मैनेज करना
  • प्रोजेक्ट को प्लान करना & रेगुलेटरी इंटरफ़ेस को अमल में लाना
  • भारत में और भारत के बाहर जॉइंट वेंचर (संयुक्त उद्यमों) और फॉरेन कोलैबोरेशन (विदेशी सहयोग) को मैनेज करना
  • ट्रेज़री & फाइनेंशियल मैनेजमेंट (वित्तीय प्रबंधन), जिसमें लोन सिंडिकेशन, टैक्सेशन, प्रोजेक्ट फाइनेंस शामिल है
  • यह सुनिश्चित करना कि कंपनी पर लागू होने वाले सभी नियमों का पालन हो रहा है 
  • कॉर्पोरेट गवर्नेंस, कॉर्पोरेट डिस्क्लोज़र और रिपोर्टिंग में सबसे अच्छी कार्यप्रणालियों की शुरुआत करना

या नीचे दिए गए कामों के लिए भी:

  • कॉर्पोरेट सामाजिक ज़िम्मेदारी
  • CS एक इंटीग्रेटेड कॉर्पोरेट मैनेजर की भी भूमिका निभाते हैं और लीगल और कॉर्पोरेट कंप्लाएन्स मैनेजमेंट (कॉर्पोरेट अनुपालन प्रबंधन) के अपने मुख्य क्षेत्र के अलावा सभी कार्यात्मक क्षेत्रों में काम  करने में सक्षम होते हैं।
  • कंपनी अधिनियम, 2013, वास्तव में, कॉर्पोरेट के अच्छे संचालन को सुनिश्चित करने के लिए, कंपनी सेक्रेटरी को कंपनी के मामलों और सभी मामलों में बोर्ड के सलाहकार के रूप में मान्यता देता है ।

एक योग्य कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर, आपको इनमें काम करने का अवसर मिल सकता है:

  • एक कंपनी सेक्रेटरी या कुछ कंपनी सेक्रेटरी द्वारा संचालित किसी फर्म में।
  • एक या एक से ज़्यादा चार्टर्ड एकाउंटेंट्स द्वारा संचालित चार्टर्ड एकाउंटेंसी फर्म में।
  • एक लॉ फर्म/सॉलिसिटर फर्म में।
  • ऐसी कंपनी में जिसका पेड-अप शेयर कैपिटल 10 करोड़ रुपए से ज़्यादा है।
  • एक कंसल्टिंग फर्म में जो विभिन्न कंपनियों को कंपनी सेक्रेटरी सर्विस प्रदान करती है।

आप अलग-अलग कंपनियों में एक स्वतंत्र कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर भी प्रैक्टिस कर सकते हैं। लेकिन स्वतंत्र तौर पर काम करने से पहले हम सलाह देते हैं, कि आप किसी फर्म में 5-8 साल काम करें।

Business-Analyst-job-description
Business-Analyst-job-description

बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर क्या होता है? – what is board of directors?

बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर लोगों का एक समूह होता है जो संगठन के लिए नीतियों को बनाता है (यह प्रॉफिट बिज़नेस, नॉन-प्रॉफिट संगठन या सरकारी एजेंसी हो सकती हैं)।  कंपनी सेक्रेटरी का काम यह सुनिश्चित करना होता है कि संगठन उचित कानून  और नियमों का पालन करते हुए  काम करे।  कंपनी सेक्रेटरी की पहचान  प्रमुख  मैनेजीरियल पर्सनेल के तौर पर भी होती है। वह कंपनी जिसका पेड-अप शेयर कैपिटल 10 करोड़ रूपये या उससे ज़्यादा हो उसमे  देश के कानूनों के तहत कंपनी सेक्रेटरी का होना अनिवार्य होता है।

आपको कंपनी के डायरेक्टरों (निदेशकों) का इस बारे में मार्गदर्शन करना होगा कि उनके  संगठन को किस प्रकार कॉर्पोरेट कानूनों  के अनुसार  डायरेक्ट , मैनेज या नियंत्रित  किया जा सकता है। इसके अलावा आप बोर्ड के सदस्यों  को कंपनी  की गतिविधियों को नियंत्रित  करने वाले नियमों और रेगुलेशंस के बारे में सूचित करेंगे। आप यह भी सुनिश्चित करेंगे कि कंपनी अपने सभी कर्तव्यों को पूरा करते हुए  कंपनीज़  एक्ट (अधिनियम)  के अनुसार काम करे। आतंरिक और बाहरी  स्टेकहोल्डर (शेयरधारकों, सीनियर लीडरों, सरकार, कर प्राधिकरण) को प्रस्तुत किए जाने वाले  सभी दस्तावेज़ों पर कंपनी सेक्रेटरी ही हस्ताक्षर करते हैं ।

कंपनी सेक्रेटरी की मुख्य काम और ज़िम्मेदारियाँ – company secretary jobs

  • एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर आपको सेक्रेटेरियल रिकॉर्ड, वैधानिक पुस्तकों  और रजिस्टरों को मेन्टेन रखना होगा।
  • आप बोर्ड /जनरल मीटिंग  की व्यवस्था  करेंगे और मीटिंग का ब्यौरा तैयार  करेंगे।
  • आप यह सुनिश्चित करेंगे की सभी शेयरधारकों को उनके लाभांश  का भुगतान समय पर किया जाए।
  • आपको कंपनी की ओर से सभी सरकारी एजेंसियों और टैक्स अथॉरिटियों के सभी फॉर्म और रिटर्न  को फाइल करना होगा 
  • कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर आपको फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट अधिनियम , एसईबीआई अधिनियम , श्रम और औद्योगिक कानून, पर्यावरण और प्रदुषण नियंत्रण कानून, एंटी-कॉम्पिटिटिव प्रक्टिसेस के तहत कानूनी  और प्रक्रिया से जुड़े पहलुओं  के पालन से जुड़ी सलाह कंपनियों को  देनी होगी। 
  • एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर आपको कंपनी लॉ बोर्ड, कंपनी के रजिस्ट्रार, उपभोक्ता फोरम, टैक्स अथॉरिटियों, नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल के सामने  कंपनी का प्रतिनिधित्व करना होगा।
  • जब भी कोई विवाद या मतभेद खड़ा हो जाए तब एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर यह आपकी ज़िम्मेदारी होगी की आप मध्यस्थता सम्बन्धी सलाह दें।
  • आप बैंक और वित्तीय संस्थानों से लोन प्राप्त करने में मदद करेंगे।
  • एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर आपको सिक्योरिटियों से सम्बंधित मामलों के दस्तावेज़ों को तैयार करना होगा ।
  • आप मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज  में सूचीबद्ध सिक्योरिटियों  की फेहरिस्त तैयार करेंगे।
  • आप अंतर्राष्टीय बाज़ार से  वित्त उगाही करने में मुख्य भूमिका निभाएंगे।
  • आप संगठन के लीगल स्ट्रक्चर (कानूनी ढांचे ) से जुड़ी  सलाह देंगे। 
  • एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर आप सभी पार्टियों जिनमे शेयरधारक, सरकार, रेगुलेटर आदि शामिल हैं को बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर द्वारा बनाई गईं सभी नीतियों के बारे में बताएँगे।
  • एक कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर निदेशकों और सीनियर लीडरशिप  टीम के सदस्यों को प्रशिक्षित करना आपकी ज़िम्मेदारी होगी। 
  • आप उन सभी रेगुलेटरी या वैधानिक  बदलावों से अपडेटेड रहेंगे जो संगठन को प्रभावित  कर सकते हैं।

Also Read…

  • As a company secretary, you have to maintain secretarial records, statutory books and registers.
  • You will arrange the board/general meeting and prepare the details of the meeting.
  • You will ensure that all the shareholders are paid their dividends on time.
  • You must file all forms and returns on behalf of the company to all government agencies and tax authorities
  • As a Company Secretary, you will be required to advise companies on compliance of legal and process related aspects under Foreign Exchange Management Act, SEBI Act, Labor and Industrial Law, Environment and Pollution Control Act, Anti-Competitive Practices.
  • As a Company Secretary, you have to represent the company before the Company Law Board, Registrar of Companies, Consumer Forum, Tax Authorities, National Company Law Tribunal.
  • Whenever a dispute or difference of opinion arises, it will be your responsibility as a Company Secretary to provide arbitration advice.
  • You will help in getting loans from banks and financial institutions.
  • As a company secretary, you have to prepare documents for matters related to securities.
  • You will prepare a list of securities listed on recognized stock exchanges.
  • You will play a key role in raising finance from the international market.
  • You will give advice on the legal structure of the organization.
  • As a company secretary, you will inform all the parties including shareholders, government, regulator etc. about all the policies framed by the board of directors.
  • As a Company Secretary, it will be your responsibility to train directors and senior leadership team members.
  • You will be updated on all regulatory or statutory changes that may affect the organization.

कंपनी सेक्रेटरी के लिए करियर ग्रोथ – company secretary career growth

  • एक मैनेजमेंट ट्रेनी के तौर पर अपना करियर शुरू करने के बाद  आप सीनियर मैनेजर या असिस्टेंट जनरल मैनेजर बन सकते हैं।   
  • एक ट्रेनी कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर अपना करियर शुरू करने के बाद कुछ समय तक  काम का अनुभव लेने के बाद आप कंपनी सेक्रेटरी और उसके बाद सीनियर सीएस /रेगुलेटरी कंप्लायंस मैनेजर बन सकते हैं।  विकल्प के तौर पर आप एडवाइजरी पक्ष से भी जुड़ सकते हैं और फाइनेंस एडवाइजर या लीगल एडवाइजर बन सकते हैं। आपमें से कुछ कंप्लायंस एक्सपर्ट (विशेषज्ञ), लीगल हेड कंसलटेंट भी बन सकते हैं। 
  • After starting your career as a Management Trainee, you can become a Senior Manager or Assistant General Manager.
  • After starting your career as a Trainee Company Secretary, you can become a Company Secretary and then Senior CS/Regulatory Compliance Manager
  • after gaining some work experience for some time. Alternatively, you can also join the advisory side and become a finance advisor or legal advisor. Some of you may even become compliance experts, legal head consultants.

कंपनी सेक्रेटरी सैलेरी

  • शुरूआती स्तर (लेवल) पर एक मैनेजमेंट ट्रेनी या असिस्टेंट कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर 0 -2 साल के अनुभव के साथ आपका बेसिक वेतन 10,000 -1,00,000 रूपये के बीच होगा। जिनके पास प्रमुख संस्थानों से सीए या एमबीए की शैक्षिक योग्यता हो उन्हें काफी अधिक वेतन भी मिलता है।  
  • जूनियर लेवल पर 2 -6 साल के अनुभव के बाद आप 20,000 से 2,00,000 रूपये हर महीना वेतन मिलने की उम्मीद कर सकते हैं।
  • एक कंपनी सेक्रेटरी जिसे 6 -12 साल का अनुभव हो वो 40,000 से  3,00,000 रूपये हर महीना के बीच कमा सकता है ।
  • अगर आपके पास 12 साल से ज़्यादा का अनुभव है तो आप 75,000 से 5,00,000 रूपये हर महीना या इससे ज़्यादा भी कमा सकते हैं।
  • With 0 -2 years experience as a Management Trainee or Assistant Company Secretary at the starting level, your basic salary will be between Rs.10,000-1,00,000. Those who have the educational qualification of CA or MBA from premier institutes also get very high salary.
  • After 2 -6 years of experience at junior level, you can expect to get a salary of Rs 20,000 to 2,00,000 per month.
  • A company secretary who has 6 -12 years of experience can earn between Rs 40,000 to 3,00,000 per month.
  • If you have more than 12 years experience then you can earn 75,000 to 5,00,000 rupees per month or even more.

Leave a Comment

Your email address will not be published.