Master of Pharmacy course details duration syllabus eligibility salary

master of pharmacy | master of pharmacy salary | master of clinical pharmacy | master of science pharmacy |

Contents show

इंडिया में मेडिकल की फील्ड बेहद व्यापक है। बड़ी फील्ड होने के कारण मेडिकल के क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए अभ्यर्थियों के पास बहुत सारे ऑप्शन मौजूद होते हैं। मेडिकल की फील्ड में अभ्यर्थी अपने इंटरेस्ट के हिसाब से किसी भी ऑप्शन को चुन सकता है। कोई इस फील्ड में डॉक्टर बन सकता है तो कोई नर्स बन सकता है अथवा कोई व्यक्ति फार्मासिस्ट बनने के लिए मास्टर ऑफ फार्मेसी (Master of Pharmacy course) का कोर्स कर सकता है।

Master of Pharmacy course Important Point

CourseMasters of Pharmacy
Course Duration2 Years
Age EligibilityNo age limit
Minimum Aggregate Score Requirement60%
Selection ProcessMerit-Based/ Entrance Exam
Average Course Fees IncurredINR 60,000 – 1 lakh per annum
Related Options of StudyINR 4.0 lakhs per annum

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स कैसे करें?

अगर आप फार्मेसिस्ट बनना चाहते हैं, तो आप मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स कर सकते हैं। वर्तमान के टाइम में मेडिकल की फील्ड में फार्मासिस्ट की काफी ज्यादा डिमांड है। बता दें एक केमिस्ट को ही फार्मेसिस्ट कहा जाता है और जब कोई अभ्यर्थी मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करके फार्मासिस्ट बन जाता है,तो वह डॉक्टर के द्वारा लिखी जाने वाली दवा को मरीजों को देने का काम कर सकता है।

12-वीं-के-बाद-फार्मेसी-के-लिए-प्रवेश-परीक्षा

इसके लिए उसे मेडिकल स्टोर खोलना पड़ता है या फिर वह डॉक्टर के साथ काम करके भी अपनी सेवाएं दे सकता है।अगर आप फार्मासिस्ट बनना चाहते हैं, तो आपको मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स के बारे में पूरी जानकारी हासिल करनी चाहिए, क्योंकि यही कोर्स करने के बाद आप फार्मेसिस्ट बन सकते हैं।

Master of pharmacy कोर्स क्या है?

मास्टर ऑफ फार्मेसी को शार्ट नेम के तहत M pharma भी कहा जाता है। यह कोर्स कुल 2 साल का पोस्ट ग्रैजुएट लेवल का डिग्री कोर्स होता है और जो भी अभ्यर्थी इस कोर्स को करना चाहते हैं, वह बैचलर ऑफ फार्मेसी यानी कि बी फार्मा का कोर्स करने के बाद मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

और कोर्स में एडमिशन मिलने के बाद इस कोर्स को कर सकते हैं। जो छात्र फार्मेसी की Field में स्पेशल और हायर एजुकेशन हासिल करने की इच्छा रखते हैं, वह छात्र एम फार्मा का कोर्स करने के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

Master of Pharmacy Eligibility

Master of Pharmacy का कोर्स करने के लिए कुछ एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया बनाए गए हैं,जिसके अंतर्गत विद्यार्थी का साइंस के बैकग्राउंड से होना आवश्यक है। मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स में एडमिशन प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को कम से कम 50% अंकों के साथ बैचलर ऑफ फार्मेसी यानी कि बी फार्मा का कोर्स इंडिया के किसी भी सर्टिफाइड यूनिवर्सिटी से पूरा करना जरूरी है। साथ ही मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए विद्यार्थियों को जीपीएटी या फिर दूसरी नेशनल अथवा स्टेट लेवल के एंट्रेंस एग्जाम को भी उचित परसेंटेज के साथ पास करना आवश्यक है।

मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स में एडमिशन की प्रक्रिया क्या है?

मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए जो प्रक्रिया है,वह इस प्रकार है।

  • Master of Pharmacy के कोर्स में एडमिशन लेने के लिए सबसे पहले विद्यार्थियों को GPT एंट्रेंस एग्जाम को अच्छे स्कोर के साथ पास करना पड़ता है।
  • एंट्रेंस एग्जाम में प्राप्तांक के आधार पर विद्यार्थियों को डायरेक्ट एडमिशन टॉप मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स करवाने वाले कॉलेज में प्राप्त हो जाता है।
  • कुछ यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम को पास कर चुके अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए भी बुलाती है और इंटरव्यू को पास करने के बाद ही उन्हें एडमिशन के लिए सिलेक्ट करती हैं।
  • जो विद्यार्थी जीपीएटी एंट्रेंस एग्जाम को पास नहीं कर पाते हैं, वह अपनी पसंद के हिसाब से कॉलेज का सिलेक्शन कर सकते हैं और एप्लीकेशन फॉर्म को भर कर के उस कॉलेज की ऑफिशियल वेबसाइट पर सबमिट कर सकते हैं,जिस कॉलेज में वह एडमिशन लेना चाहते हैं।
  • कुछ कॉलेज ऐसे होते हैं जो एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन नहीं करते हैं बल्कि जिस अभ्यर्थी ने बैचलर ऑफ फार्मेसी के कोर्स में जितने परसेंटेज हासिल किया होते हैं, उसी के हिसाब से अभ्यर्थियों की मेरिट लिस्ट जारी करते हैं और मेरिट लिस्ट में जिन विद्यार्थियों के नंबर ज्यादा होते हैं, उन्हें एडमिशन दिया जाता है।

मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स के लिए एंट्रेंस एग्जाम क्या है?

इंडिया में कई यूनिवर्सिटी के द्वारा मास्टर ऑफ़ फार्मेसी के कोर्स में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करवाया जाता है। उन यूनिवर्सिटी के नाम इस प्रकार हैं।

  • जीपीएटी (Graduate Pharmacy Aptitude Test) : इसे NTA के द्वारा करवाया जाता है।
  • AP PGECET: इस एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन आंध्र यूनिवर्सिटी करती है।
  • TANCET:इस एंट्रेंस एग्जाम का भी आयोजन आंध्र यूनिवर्सिटी करती है।
  • TS PGECET: ओसमानिया यूनिवर्सिटी के द्वारा इस एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करवाया जाता है।
  • Odisha Joint Entrance Examination :इसे ओडीशा ज्वाइंट एंटरेंस एग्जामिनेशन बोर्ड आयोजित करता है।
  • AU AIMEE:इसे अन्नामलाई यूनिवर्सिटी आयोजित करती है।

मास्टर ऑफ फार्मेसी के एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी कैसे करें?

मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स में एडमिशन पाने के लिए एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के लिए विद्यार्थियों को एग्जाम पैटर्न के बारे में क्लियर आइडिया होना चाहिए।उन्हें इसके बारे में भी पता होना चाहिए कि एग्जाम में टोटल कितने क्वेश्चन आएंगे, एग्जाम को देने के लिए कितना समय मिलेगा और एग्जाम का सिलेबस क्या है। मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए जो एंट्रेंस एग्जाम आयोजित होती है,उसमें जो क्वेश्चन आते हैं वह बी फार्मा सिलेबस से ही मिलते जुलते होते हैं। इसीलिए आपको फार्मास्यूटिकल एनालिसिस, क्लिनिकल फार्मेसी तथा फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी की बेसिक इनफार्मेशन हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए

b-pharmacy-course-information-in-hindi
  • जीपीएटी एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के लिए विद्यार्थियों को सही किताबों का सहारा लेना चाहिए ताकि वह इस एग्जाम को अच्छे से अच्छे अंको से पास कर सकें।
  • एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करने के लिए अभ्यर्थियों को एक टाइम टेबल भी बनाना चाहिए और उसी समय सारिणी के अनुरूप अपनी तैयारी करनी चाहिए।
  • विद्यार्थियों को इस एंट्रेंस एग्जाम के पिछले सालों के क्वेश्चन पेपर को भी इकट्ठा करना चाहिए और उन्हें ध्यान पूर्वक देखना चाहिए,ऐसा करने से उन्हें इसके एग्जाम पैटर्न और इसके सिलेबस के बारे में काफी ज्यादा इंफॉर्मेशन हासिल हो सकती है।
  • विद्यार्थी यूट्यूब पर आने वाले एजुकेशनल वीडियो को देख कर के भी इस एंट्रेंस एग्जाम की प्रिपरेशन कर सकते हैं, क्योंकि यूट्यूब पर लगभग हर एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करवाई जाती है।
  • विद्यार्थी चाहे तो इस एंट्रेंस एग्जाम से रिलेटेड टेलीग्राम चैनल को भी ज्वाइन कर सकते हैं और वहां से भी इसके बारे में काफी जानकारी हासिल कर सकते हैं।
  • जिन लोगों ने इस एंट्रेंस एग्जाम को दिया है,विद्यार्थी उनसे भी मिल सकते हैं और महत्वपूर्ण टिप्स हासिल कर सकते हैं।

Master of Pharmacy Syllabus

  • Drug Regulatory Affairs
  • Advanced Pharmaceutics
  • Biological Evaluation
  • Product Development and Formulation
  • Novel Drug Delivery Systems
  • Biopharmaceutics and Pharmacokinetics

Best master of pharmacy colleges list

  • Jamia Hamdard University, New Delhi       
  • Punjab University, Chandigarh    
  • Delhi Institute Of Pharmaceutical Sciences & Research    
  • Sri Ramchandra Institute Of Higher Education & Research           
  • National Institute Of Pharmaceutical Education & Research
  • Institute Of Chemical Technology, Mumbai
  • Birla Institute Of Technology & Science, Pilani      
  • Manipal College Of Pharmaceutical Sciences        
  • JSS College Of Pharmacy
  • JSS Academy Of Higher Education & Research    
  • Annamalai University           
  • Birla Institute of Technology, Mesra
  • Shobhaben Pratabhai Patel School Of Pharmacy & Technology Management    
  • SRM College Of Pharmacy 
  • Maharaja SayajiRao University Of Baroda 
  • Institute Of Pharmacy, Nirma University
  • Banasthali Vidyapith
  • Amity University, Noida
  • Poona College Of Pharmacy
  • Bombay College Of Pharmacy

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करने के बाद कौन सी नौकरी मिलती है?

  • फार्मोकोलॉजिस्ट
  • फार्मासिस्ट
  • ड्रग एंड क्वालिटी कंट्रोल
  • क्लीनिकल प्रोजेक्ट मैनेजर
  • ऑंकोलॉजी फार्मेसिस्ट
  • मेडिकल राइटर
  • रिसर्च साइंटिस्ट
  • Pharmacognosy

मास्टर ऑफ फार्मेसी पास आउट टॉप रिक्रूटर कौन है?

अपोलो हॉस्पिटलटीबा फार्मास्यूटिकल्स
एजी मेडिकल कम्युनिकेशंससन फार्मास्युटिकल्स
नोवर्टिससिपला
डॉ रेड्डी लैबोरेट्रीजलूपिन
औरोबिंदोजीडस कैडिला
ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्सअबाोट इंडिया
बायोकॉनरैनबैक्सी
अदानी ग्रुपताज फार्मास्यूटिकल्स
IQVIANovozymes
Wockhardt

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करने के लिए योग्यता क्या है?

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स एक बहुत ही फायदेमंद कोर्स माना जाता है और इस कोर्स को करने के लिए अभ्यर्थियों के अंदर कुछ कौशल अवश्य होनी चाहिए। इनमें से कुछ प्रमुख योग्यताएं निम्नलिखित है।

प्रॉब्लम सॉल्विंग का गुणएनालिसिस करने का गुण
मार्केटिंग करने का गुणएनालिटिकल कौशल
क्रिएटिव थिंकिंगऑर्गेनाइजेशनल और डिसीप्लिनरी स्किल
अच्छी कम्युनिकेशन स्किलकेमिकल के बारे में जानकारी
प्रेशर को हैंडल करने का गुणमेडिकल राइटिंग और एथिक्स

मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स में क्या कैरियर स्कोप है?

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स पूरा करने के बाद अभ्यर्थी विभिन्न गवर्नमेंट और प्राइवेट हॉस्पिटल में काम कर सकता है। इसके अलावा वह चाहे तो खुद का मेडिकल स्टोर भी ओपन कर सकता है, साथ ही वह फूड कंपनी, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, ड्रग कंट्रोल एडमिनिस्ट्रेशन, सेल्स एंड मार्केटिंग डिपार्टमेंट, रिसर्च एजेंसी, इंडस्ट्री, लेबोरेटरी, बाहर के देशों के हॉस्पिटल में भी काम कर सकता है।

अगर अभ्यर्थी पब्लिक सेक्टर में जॉब पाना चाहता है,तो वह ड्रग इंस्पैक्टर या फिर फार्मेसिस्ट के तहत काम चालू कर सकता है।मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करने के बाद अभ्यर्थी को अपने कैरियर में काफी उछाल देखने को मिलता है। इस कोर्स को करने के बाद चाहे तो अभ्यर्थी अपनी खुद की छोटी फार्मास्यूटिकल कंपनी भी ओपन कर सकता है या फिर मेडिकल स्टोर चालू कर सकता है।

मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स की फीस क्या है?

गवर्नमेंट कॉलेज में और प्राइवेट कॉलेज में इस कोर्स की फीस अलग-अलग हो सकती है। सामान्य आंकड़े के अनुसार मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स की गवर्नमेंट कॉलेज में सालाना फीस तकरीबन ₹1 लाख से लेकर 1 लाख 80 हजार तक के आसपास हो सकती है। अगर प्राइवेट कॉलेज में मास्टर ऑफ फार्मेसी के कोर्स की फीस की बात करें, तो यह फीस 2 लाख से लेकर 2 लाख 30‌ हजार तक सालाना हो सकती है।

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स क्यों करें?

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स पूरा करने के बाद अभ्यर्थियों के सामने काम करने के लिए बहुत सारी जॉब प्रोफाइल आ जाती है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद अभ्यर्थी मेडिकल इंडस्ट्री में काम कर सकते हैं या फिर रिटेल इंडस्ट्री में भी काम कर सकते हैं। इसके अलावा वह चाहे तो युवा वर्ग को फार्मास्यूटिकल Skills को डिवेलप करने में भी सहायता दे सकते हैं।

  • इस कोर्स को करने के बाद अभ्यर्थी फार्मासिस्ट बन जाते हैं और फार्मेसिस्ट बनकर वह अपना खुद का मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं और अपने काम करने का समय खुद ही तय कर सकते हैं।
  • मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स कर चुके अभ्यर्थी उच्च सैलरी प्राप्त कर सकते हैं।
  • मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करके अभ्यर्थी अपनी स्किल्स को भी डिवेलप कर सकते हैं फिर चाहे वह प्रॉब्लम सॉल्विंग का गुण हों या फिर decision-making का गुण हो।
  • विद्यार्थी चाहे तो इस कोर्स को करने के बाद विदेशों की यूनिवर्सिटी में रिसर्च वर्क के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं और अपने कैरियर को एक नई उड़ान दे सकते हैं।

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करने के बाद क्या सैलरी मिलेगी?

मास्टर ऑफ फार्मेसी का कोर्स करने के बाद अगर कोई अभ्यर्थी गवर्नमेंट सेक्टर में नौकरी प्राप्त करने में सफलता हासिल कर लेता है, तो उसे शुरुवात में तकरीबन ₹35,000 से लेकर ₹40,000 तक की सैलरी प्राप्त हो सकती है। और अगर अभ्यर्थी प्राइवेट सेक्टर में नौकरी प्राप्त करता है तो स्टार्टिंग में उसे तकरीबन 20000 से लेकर ₹24000 तक की सैलरी प्राप्त हो सकती है।

यह सैलरी हर राज्य के हिसाब से और हर कंपनी के हिसाब से अलग-अलग भी हो सकती है, इसीलिए जब आप नौकरी ज्वाइन करेंगे,तभी आपको सैलरी के बारे में सटीक जानकारी हासिल होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!